हैदराबाद : तेलंगाना में भाजपा के अध्यक्ष डॉ. के. लक्ष्मण ने वरिष्ठ नेता रेवंत रेड्डी को कांग्रेस पार्टी पर भरोसा नहीं होने का दावा करते हुए कहा कि रेवंद रेड्डी तेलंगाना सरकार के भ्रष्टाचार से संबंधित जो भी सबूत देंगे हम उन्हें स्वीकार करेंगे।

उन्होंने जहां टीआरएस में मालिकों और किरायदारों का झगड़ा चल रहा है तो कांग्रेस में पुरानी कांग्रेस और नई कांग्रेस की पंचायत चल रही है। उन्होंने साफ कहा कि उनकी पार्टी हुजुरनगर उपचुनाव जरूर लड़ेगी और चुनाव अधिसूचना जारी होने के बाद अपना उम्मीदवार घोषित करेगी।

लक्ष्मण ने कहा कि सिंगरेणी कर्मचारियों को 30 फीसदी बोनस की उम्मीद थी, लेकिन तेलंगाना सरकार ने केवल 28 फीसदी बोनस दी है। सरकार के गलत फैसलों की वजह से सिंगरेणी के मुश्किलों से गुजरने का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि केसीआर कहते बहुत कुछ, लेकिन करते बहुत कम। उन्होंने कहा कि टीआरएस सरकार ने सिंगरेणी, आरटीसी और विद्युत निगम ही नहीं बल्कि पूरे राज्य को कर्ज में डूबो दिया है।

उन्होंने कहा कि सिंगरेणी को टीआरएस सरकार ने कर्ज के दलदल में धकेला है। सिंगरेणी में कर्मचारियों को समय पर वेतन का भुगतान और बोनस नहीं देने के कारण उन्हें आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। राज्य के छह जिलों में फैले सिंगरेणी कर्मचारियों की मेहनत की सरकार अनदेखी कर रही है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि सिंगरेणी कॉलोरीज के अस्पतालों में डॉक्टर तक उपलब्ध नहीं होने से यहां के कर्मचारी विभिन्न बीमारियों से जूझने को मजबूर है। सिंगरेणी में 49 फीसदी हिस्सा केंद्र के होने का हवाला देते हुए राज्य सरकार से उसके हिस्से के सिंगरेणी बकाया का भुगतान करने की मांग की। उन्होंने कहा कि सिंगरेणी कर्मचारियों के वोट से जीतने वाले विधायकों के मुंह बंद पड़ गए हैं। सिंगरेणी में विरासत में नौकरियां देने का वादा कर चुके केसीआर अब पारिवारिक राजनीतिक कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें :

तेलंगाना के नल्लमला में यूरेनियम खनन की हरगिज अनुमति नहीं दी जाएगी : KCR

तेलंगाना सरकार की दमनकारी नीति के विरोध में सामूहिक अनशन : उत्तम कुमार रेड्डी

महाराष्ट्र के पूर्व राज्यपाल CH विद्यासागर राव BJP में हुए शामिल, कही यह बात

उन्होंने कहा कि सिंगरेणी को सरकार 8 हजार करोड़ रुपये देने हैं और ऐसे में बोनस का पैसा मांगने पर सरकार के पास कर्ज लेने के अलावा दूसरा रास्ता नहीं है। उन्होंने सिंगरेणी मजदूर संघ के चुनाव तत्काल कराए जाने की मांग की।