हैदराबाद : गांधी अस्पताल में कथित मुठभेड़ में मारे गये सीआईएम (एमएल) न्यू डेमोक्रसी के दल कमांडर लिंगन्ना का दोबारा पोस्टमार्टम किया गया। तेलंगाना हाईकोर्ट के आदेशानुसार शुक्रवार को लिंगन्ना के शव का दोबारा पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम और मुठभेड़ की रिपोर्ट आगामी 5 अगस्त को हाईकोर्ट में पेश की जाएगी।

इसी क्रम में पुलिस ने कथित मुठभेड़ में मारे गये लिंगन्ना के दोबारा पोस्टमार्टम के चलते गांधी अस्पताल परिसर में कड़े बंदोबस्त किये थे। गांधी अस्पताल परिसर में आंदोलन पर उतर आये अनेक प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किये गये लोगों में न्यू डेमोक्रसी नेता प्रदीप और अरुणा, अरुणोदया समाख्या की नेता और गायिका विमलक्का तथा पीओडब्ल्यू अध्यक्ष संध्या शामिल हैं।

दूसरी ओर लिंगन्ना के पार्थिव शरीर को देखने के लिए गांधी अस्पताल आये न्यू डेमोक्रसी नेता प्रदीप और अरुणा को भी गिरफ्तार किया और नारायणगुड़ा थाने ले गई। इसी दौरान वहां पहुंची अरुणोदया समाख्या की नेता और गायिका विमलक्का तथा पीओडब्ल्यू अध्यक्ष संध्या को को भी हिरासत में लिया।

इसे भी पढ़ें :

गोलियों की तड़तड़ाहट से थर्राया तेलंगाना के गुंडाला वनक्षेत्र, मुठभेड़ में नक्सल कमांडर ढेर

गुंडाला मुठभेड़ : HC ने दिया माओवादी नेता लिंगन्ना के शव का रि-पोस्टमार्टम का आदेश

लिंगन्ना का बेटा हरि
लिंगन्ना का बेटा हरि

लिंगन्ना का बेटा हरि

दूसरी ओर लिंगन्ना के बेटे हरि ने आरोप लगाया कि उनके पिता लिंगन्ना की फर्जी मुठभेड़ में मारा गया है। उन्होंने बताया कि उनके पिता को पुलिस पकड़कर ले गई और इसके बाद निर्मतापूर्वक बाद हत्या कर दी है।

हरि ने यह भी बताया कि जब उनके पिता को पुलिस पकड़कर ले गई तब उनके पास कोई हथियार नहीं था। उनके पिता का पोस्टमार्टम भी बिना परिवार को बताये किया गया है। हरि ने उनके पिता की मुठभेड़ पर न्यायिक जांच कराने की सरकार से मांग की है।

5 को सौंपी जाएगी रिपोर्ट

आपको बता दें कि गुरुवार को तेलंगाना हाईकोर्ट ने लिंगन्ना का रि पोस्टमार्टम करने के आदेश दिया था। इसके चलते पुलिस आज अल सुबह लिंगन्ना के शव को गांधी अस्पताल ले आई। साथ ही हाईकोर्ट ने पोस्टमार्टम और मुठभेड़ संबंधित घटना की रिपोर्ट 5 अगस्त को हाईकोर्ट में पेश किये जाने का तेलंगाना सरकार को आदेश दिया है।

रेणुका चौधरी

इसी दौरान पूर्व सांसद रेणुका चौधरी ने विमलक्का और संध्या की गिरफ्तारी की निंदा की। उन्होंने कहा कि यह अन्याय है। एक व्यक्ति के शव को देखने के लिए आये लोगों को गिरफ्तार किया जाना गलत है। रेणुका ने यह भी कहा कि सामाजिक न्याय के लिए लड़ने को केंद्र और राज्य सरकारें कुचल रही है।