हैदराबाद : भारत की विश्वप्रसिद्ध भारत अंतरिक्ष संशोधन संस्था (इसरो) चंद्रयान-2 का प्रयोग करेगी। भारत के साथ विश्व के अन्य देश भी चंद्रयान-2 की ओर उत्कंठा से देख रहे हैं। इस प्रयोग में कई शास्त्रज्ञ जुड़े हैं।

चंद्रयान-२ के प्रयोग में तेलंगाना का एक शास्त्रज्ञ शामिल है। वह तेलंगाना के सिद्दीपेट जिले का है। देश शास्त्र तकनीकी अंतरिक्ष विज्ञान क्षेत्र में चंद्रयान-२ महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा। इस अभियान में सिद्दीपेट का सुरेंदर की क्षेत्र के प्रमुख सराहना कर रहे हैं।

पूर्व मंत्री और सिद्दीपेट के विधायक हरीश राव ने उनकी सराहना की है। उन्होंने ट्वीट में कहा कि भारत के लिए गौरव चंद्रयान के प्रयोग में सुरेंदर का शामिल होना, हम सबके लिए गर्व की बात है। भारत के लिए अंतरिक्ष में प्रयोग क्षेत्र में युवा देश का नाम रोशन करें।

इसे भी पढ़ें :

चंद्रयान-2 : चंद्रमा मिशन पर ले जाएगा भारत का ये सबसे शक्तिशाली लॉन्चर, क्या है इसमें खास

श्री पोट्टी श्रीरामुलू नेल्लूर जिले के श्रीहरीकोटा में मौजूद सतीश धवन स्पेश सेंटर (शार) से 15 जुलाई की अलस सुबह 2.51 बजे चंद्रयान-२ को अंतरिक्ष में छोड़ा जाएगा।