हैदराबाद : तेलंगाना पुलिस ने कानून व्यवस्था बनाये रखने में इन 50 सालों में अच्छी प्रगति की है। ऐसी प्रगति देश के किसी भी राज्य ने नहीं की है। हैदराबाद पुलिस देश के अन्य शहरों के लिए ही नहीं, बल्कि अन्य देशों के लिए भी मार्गदर्शक बन गई है। हैदराबाद नगर पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने रविवार को मीडिया से यह बात कही।

नगर पुलिस आयुक्त ने कहा कि आगामी 2 जून को तेलंगाना राज्य गठित होकर पांच साल पूरे होंगे। इन पांच सालों में आधुनिक तकनीकी के सहयोग से अपराध की घटनाओं को काबू पाने और कानून व्यवस्था बनाये रखने में तेलंगाना पुलिस सबसे आगे है।

हैदराबाद शहर सुरक्षित नगर

हैदराबाद शहर की सुरक्षित नगर के रूप में पहचान बन गई है। इसीलिए विदेशी दूतावासों की ओर से हैदराबाद की पुलिस को बधाई संदेश मिल रहे है। नगर में हर साल अपराध की संख्या में कमी आ रही है। सीसी कैमरे को स्थापित करने में लोग सहयोग करे तो अपराध की घटनाओं को और अच्छी तरह से रोका जा सकता है। जहां पर कानून व्यवस्था ठीक होगी, वहीं पर कोई भी संस्था या संगठन पूंजी निवेश कर सकता है। ऐसा होने पर ही कोई भी नगर, राज्य और देश विकास कर पाएगा।

हैदराबाद के शंकरमठ में चोरी करने वाला कर्मचारी गिरफ्तार, माल बरामद

छुट्टी पर गये तो

अंजनी कुमार ने कहा कि यदि कोई छुट्टी पर मकान को ताला लगाकर जाते है तो इसकी जानकारी स्थानीय सेक्टार के एसआई और ब्लू कोल्ट्स को दें। इसके अलावा मकानों में काम करने वालों की पूरी जानकारी मकान मालिक ले ले। इस तरह मकानों में काम करने वालों के बारे में पुलिस नि:शुल्क जांच पड़ताल करेगी। अब तक नगर पुलिस ने इस तरह काम करने वाले लगभग 8 हजार लोगों के बारे में जांच पड़ताल की गई है। हॉक आई नामक एप्लिकेशन में यह संभव है। इस एप्लिकेशन में नाम दर्ज किया जा सकता है। हैदराबाद में अपराध किया गया तो कोई भी बच नहीं पाएगा। नगर में इस समय एक करोड़ जन संख्या है। इनमें से एक प्रतिशत से भी कम अपराधी है। इसमें और कमी के लिए आवश्यक कदम उठाया जा सकता है। आधुनिक तकनीकी के सहयोग से किसी भी प्रकार के अपराधी को पकड़ा जा सकता है।

पीछे बैठने वाले भी हेलमेट पहले...

पुलिस आयुक्त ने बताया कि नगर की पुलिस की केवल बाजू के जिले ही नहीं, पड़ोसी राज्यों में भी अपराध की घटनाओं को रोकथाम के लिएं सहयोग कर रही है। हाल ही में सेंट्रल जोन परिधि में एक सड़क दुर्घटना हुई। वाहन चालक ने हेलमेट पहन रखा था। पीछे बैठी उसकी पत्नी ने हेलमेट नहीं पहना था। अचानक दुर्घटना हुई। दुर्घटना में उसकी पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गई। यदि वह हेलमेट पहनती तो गंभीर रूप से घायल नहीं होती। हर एक व्यक्ति का जीवन महत्वपूर्ण होता है। इसीलिए वाहन के पीछे बैठने वाले भी जरूर हेलमेट पहने तो अच्छा है। हर परिवार के बच्चों को इस ओर ध्यान देना चाहिए। पुलिस भी इस बारे में लोगों में जागरूकता कार्यक्रम चलाएगी। वाइटनर पीकर अपराध करने वाले लोग शहर में है। इसके चलते वाइटनर बेचने वाले दुकानों पर विशेष नजर रखी जाएगी।