रवि प्रकाश ने ‘बेहतर समाज’ के पीछे खड़ा किया काला साम्राज्य 

वी. विजयसाई रेड्डी  - Sakshi Samachar

अमरावती : वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सदस्य वी. विजयसाई रेड्डी ने कहा कि बेहतर समाज के निर्माण के नाम पर अपना काला साम्राज्य चला रहे टीवी-9 के रवि प्रकाश द्वारा पिछले दो दशकों में की गई धोखाधडियों की सूची तैयार करेंगो तो एक ग्रंथ बन जाएगा।

विजयसाई रेड्डी के मुताबिक अधिकांश लोग जानते हैं कि टीवी-9 के साथ तेलुगु पत्रकारिता में कल तक हीरो नजर आए रवि प्रकाश का काला चिट्ठा भी उतना ही बड़ा है। श्रीनिराजू द्वारा पिछले वर्ष टीवी-9 की 90 फीसदी हिस्सेदारी बेचने के बाद से रवि प्रकाश की 'बेहतर जिन्दगी' में अंधेरा छाना शुरू हो गया। परंतु अब उनके काला साम्राज्य की गुत्थियां एक के बाद एक सुलझने लगी हैं।

चंद्रबाबू के साथ खड़े होकर..

चंद्रबाबू को सदैव सत्ता में बनाए रखने के लिए टीवी-9 के पर्दे के सामने शिवाजी और पर्दे के पीछे रवि प्रकाश अपनी-अपनी भूमिका निभाते रहे। चंद्रबाबू का लिखा स्क्रिप्ट के मुताबिक ही ये दोनें वाईएसआरसीपी और वाईएस जगन मोहन रेड्डी के खिलाफ टीवी-9 के जरिए जहर उगलते हुए ऑपरेशन गरुड़ का प्रसार करते आए। परंतु उनके पाप का घड़ा भरकर उनकी अंदरूनी सांठगांठ का भंडाफोड़ हुआ।

शिवाजी ने यह कहकर नया ड्रामा शुरू किया कि रवि प्रकाश ने टीवी-9 में अपना कुछ हिस्सा बेचकर शेयरों को उनके नाम पर हस्तांतरित किए बिना धोखा देने की शिकायत नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में की। इन दोनों ने शेयरों की खरीददारी के लिए एक कोरे कागज पर समझौता लिखकर एक वर्ष बाद उन्हें हस्तांतरित करने का फैसला किया था।

टीवी-9 पर अपना आधिपत्य नए प्रबंधन के हाथ में जाने से रोकने के लिए रवि प्रकाश ने एक वर्ष पहले ही पेड आर्टिस्ट शिवाजी को मैदान में उतारा और इसकी पूरी रणनीति अमरावती में बनाई गई। उसी के अनुरूप शिवाजी ने एनसीएलटी में अपने शेयरों की कहानी गढ़ी।

चंद्रबाबू नायडू ने टीवी-9 पर रवि प्रकाश का आधिपत्य दूसरों के हाथ में जाने पर राजनीतिक रूप से भारी नुकसान होने की आशंका से इस पूरे मामले को एक लीगल समस्या का रूप देकर प्रबंधन के बदलाव को रोकने के लिए शिवाजी जैसे कैरेक्टरों को मोहरा बनाया।

बेहतर समाज के लिए जात-पात की दीवारें तोड़ने की बात करते हुए एक सीधेसादे पत्रकार को टीवी पर आगे बढ़ते देख समाज ने उसे बड़ा सम्मान दिया। परंतु वही पत्रकार जब आदर्शों को ताक पर रखते हुए अनेक लोगों को ब्लैकमेल करने के अलावा जबरन वसूली के लिए कमर कसने लगा तो समाज शर्मसार हो गया है।

जात-पात की दीवार गिराने की बजाय खुद जाति की दलदल में डूब गया। चंद्रबाबू को आदर्श मानते हुए पत्रकारिता के मूल्यों व परंपरा का खून कर दिया। रवि प्रकाश ने बहुत ही कम समय में सौकड़ों करोड़ रुपये कमाए। अवैध रूप से अर्जित सैकड़ों करोड़ रुपये विदेशों मुख्य रूप से दक्षिण अफ्रीका में निवेश किया। अब वही आदर्शवादी पत्रकार जेल की सलांखों से बचने के लिए पुलिस से छिपकर चंद्रबाबू नायडू की मदद से अंडरग्राउंड में जा चुका है।

रवि प्रकाश की आमदानी सौकड़ों करोड़ के पार...

टीवी-9 की आड़ में रवि प्रकाश द्वारा दोनों तेलुगु भाषी राज्यों में अनेक लोगों को ब्लैकमेल कर अर्जित कमाई सैकड़ों करोड़ पार कर चुकी है। किसी को कुछ नहीं बता पाने से परेशान रहने वाले रवि प्रकाश के पीड़ितों की संख्या हजारों में है।

सत्यम रामलिंगराजू को भी किया ब्लैकमेल

विजयसाई रेड्डी ने कहा कि रवि प्रकाश जैसे की कीड़ों की वजह से तेलुगु मीडिया की प्रतिष्ठा धुमिल हुई है। ऐसा कोई बुरा काम नहीं बचा होगा, जिसे रवि प्रकाश ने नहीं किया हो। धर्म और जाति को नीचा दिखाना, कार्पोरेट मतभेदों से लेकर पति-पत्नी के बीच के झगड़ों तक टीवी स्क्रीन पर लाकर समाज को धुमिल कर दिया है।

आखिर में रवि प्रकाश द्वारा टीवी-9 के मुख्य निवेशक श्रीनिराजू की कंपनी में काम करते हुए उनके साड़ू सत्यम रामलिंगराजू को भी ब्लैकमेल कर उनसे करोड़ों रुपए वसूले जाने की खबर है। रामलिंगराजू जमानत मिलने से पहले रामलिंगराजू अपने इलाज के लिए निम्स अस्पताल में भर्ती हुए थे और उस दौरान रवि प्रकाश ने स्पाई कैमरे से उन्हें सेलफोन पर बातें करते हुए वीडियो रिकार्ड कर उनसे करोड़ों रुपए वसूले थे। उसी तरह, लालचंदन के तस्करों से हर महीने कमीशन लेने के आरोप भी लगे थे।

इसे भी पढ़ें :

AP में मतगणना को लेकर विजयसाई रेड्डी ने CEC को लिखा पत्र, केंद्रीय बल तैनात करने का अनुरोध

आखिर में टीवी-9 स्टिकर लगे वाहनों में लाल चंदन की तस्करी करने के अलावा लाखों करोड़ रुपए के लाल चंदन लकड़ी की तस्करी में रवि प्रकाश का हाथ होने जैसे गंभीर आरोप लगे थे।

उन्होंने फिल्मों में मौका नहीं मिलने से ब्रोकर बने शिवाजी की आय स्रोत की जांच कराने की मांग की गई। शिवाजी के ऑपरेशन गरुड़ को एक साजिस करार देते हुए उन्होंने कहा कि शिवाजी ने अमरावती और हैदराबाद में संपत्ति कैसे खरीदी, इसकी भी जांच होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि आज का समाज बेहतर समाज के नाम पर कई करतूतों को अंजाम दे चुके रवि प्रकाश को पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर जांच में सहयोग देने को कह रहा है।

Advertisement
Back to Top