हैदराबाद : तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एन. उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा है कि राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन से इंटरमीडिएट परीक्षा परिणामों में गड़बड़ी के कारण हुई विद्यार्थियों की आत्महत्या को सरकार द्वारा की गई हत्या मानने की अपील की गई है।

राज्यपाल से मुलाकात के बाद उत्तम कुमार रेड्डी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि राज्यपाल को मुख्य रूप से दो विषयों से अवगत कराया जा चुका है। उन्होंने कहा कि केसीआर के पास न्यूनतम प्रशासन की क्षमता तक नहीं है और यही वजह है कि महत्वपूर्ण इंटर परीक्षा के आयोजन में भी विफल रहे हैं।

इंटर परीक्षा परिणामों के मामले में विद्यार्थी विश्वास खो चुके हैं, यही वजह है कि विद्यार्थी बड़ी संख्या में आत्महत्या कर चुके हैं। इसीलिए विद्यार्थियों के साथ न्याय करने के लिए परिणामों की पुन: समीक्षा करने की अपील की गई है। उन्होंने हाईकोर्ट के वर्तमान न्यायाधीश से इस पूरे प्रकरण की जांच कराने और जिम्मेदार लोगों को निलंबित किए जाने की मांग की गई है। उन्होंने शिक्षा मंत्री पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए उन्हें तुरंत मंत्री पद से बर्खास्त किए जाने की मांग की।

उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा कि केसीआर संविधान के विरुद्ध दलबदल की राजनीतिक को बढ़ावा दे रही है। टीआरएस में काविद के विलय को असंभव बताते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष के हस्तक्षेप के बिना काविद का विलय कैसे संभव है। उन्होंने कहा कि देश को आजादी दिलाने वाली कांग्रेस का हाल-हाल में स्थापित टीआरएस पार्टी में विलय शर्मनाक है। उन्होंने आरोप लगाया कि केसीआर करोड़ों रुपए देने के साथ पदों का लालच देकर कांग्रेस पार्टी के विधायकों को खरीद रहे हैं।

इसे भी पढ़ें :

केसीआर ने इंटर के फेल छात्रों को किया आश्वस्त, कहा- फ्री होगा पुनर्मूल्यांकनकाविद नेता भट्टि मल्लू विक्रमार्क ने कहा कि संवैधानिक पद पर बैठे राज्यपाल को संविधान की रक्षा करने की तत्काल जरूरत है। संविधान के शेड्यूल 10 के मुताबिक दलबदलू विधायकों के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील की।

उन्होंने कहा कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने भारत देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए चुनौती दी है। लेकिन अब राज्यपाल से लोकतंत्र को केसीआर की आराजकता से बचाने का अनुरोध किया गया है। उन्होंने पार्टी बदलने वाले विधायकों के खिलाफ तुरंत दलबदलू कानून लागू किए जाने की मांग की गई।