हैदराबाद : तेलंगाना में इंटर परीक्षा परिणाम घोषित होने के बाद से अब तक छह छात्रों ने आत्महत्या की है। इसके चलते आत्महत्या कर चुके छात्रों के परिवार में शोक की लहर छा गई हैं।

इसी क्रम में मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि माता पिता और कॉलेज प्रबंधन के दबाव के कारण की छात्र आत्महत्या का रास्ता अपना रहे हैं। इंटर परीक्षा में फेल होने वाले छात्रों को एडवांस सप्लमेंटरी परीक्षा लिखने का मौका है। परीक्षा लिखने का एक अच्छा मौका होने पर भी छात्रों द्वारा आत्महत्या पर उतर आना चिंता का विषय है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, राचकोंडा परिधि के कुशाईगुड़ा थाना क्षेत्र में अंक कम आने के कारण एक छात्रा ने आत्महत्या की है। इसी तरह थाना क्षेत्र में नागेंदर नामक छात्र ने परीक्षा फेल होने के कारण आत्महत्या कर ली।

यह भी पढ़ें :

TS Inter Results 2019 : परिणाम जारी, देखने के लिए यहां करें क्लिक

प्रगति महाविद्यालय में पढ़ रही अनमिका ने इंटर में एक विषय फेल होने के कारण मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इसी क्रम में बोधन में इंटर परीक्षा में फेल होने के कारण वेन्नेला ने आत्महत्या की। वरंगल में भी इंटर परीक्षा फेल हो जान के कारण भानुकिरण ने चलती ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। मारेडपल्ली में इंटर की परीक्षा में फेल होने के कारण लास्या ने आत्महत्या की है।

आपको बता दें कि कल शाम तेलंगाना में इंटर परीक्षा परिणाम जारी हुए थे। तेलंगाना इंटरमीडिएट प्रथम और द्वितीय वर्ष के परीक्षा परिणाम आज जारी कर दिए गए। इंटरमीडिएट बोर्ड कार्यालय में शाम 5 बजे शिक्षा विभाग के सचिव बी. जनार्दन रेड्डी ने परिणाम जारी किए।

इंटर में द्वितीय वर्ष में 65 फीसदी और इंटर प्रथम वर्ष में 59.8 फीसदी विद्यार्थी उत्तीर्ण रहे। उत्तीर्णता प्रतिशत के मामले में जहां मेड्चल जिला पहले स्थान पर रहा, वहीं मेदक अंतिम स्थान पर रहा है। हर वर्ष की तरह इस बार भी छात्रों के मुकाबले बालिकाओं का उत्तीर्णता प्रतिशत अधिक है।