हैदराबाद : एग्री गोल्ड औकॉर क्यूनेट मल्टीलेवल लेवल घोटाले मामले थमे ही नहीं कि साइबराबाद आयुक्त परिधि में ईबिज नाम से एक और मल्टी लेवल मार्केटिंग घोटाले का खुलासा हुआ है। नोएडा, उत्तर प्रदेश में साल 2001 के दौरान स्थापित की ईबिज डॉट कॉम प्राइवेट लिमिटेड ने मल्टी लेवल मार्केटिंग की आड़ में लगभग एक लाख लोगों को 1000 करोड़ रुपए का चूना लगाया।

इस कंपनी के खिलाफ हैदराबाद के माधापुर पुलिस थाने के अलावा वरंगल और आदिलाबाद जिले में भी ठगी के मामले सामने आये। ईबिज के खिलाफ आईपीसी की धारा 406, 420, 506 और प्राइज चिट्स ऑल चीट्स एंड मनी सर्क्युलेशन स्कीम अधिनियम की धारा 3 4 5 और 6 के तहत मामले दर्ज किए गए हैं।

इन मामलों के संबंध में नोएडा निवासी और कंपनी के प्रबंध निदेशक पवन मल्हन, उसके पत्नी अनीता मल्हार और उसके पुत्र हितेश मल्हन को साइबराबाद की माधापुर पुलिस ने गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसकी 70.5 करोड़ की नगदी जो विभिन्न बैंक खातों में जमा है, को फ्रीज कर दिया है।

इसे भी पढ़ें:

हैदराबाद में हवाला के तहत लाये गए 7.71 करोड़ रुपये जब्त, 4 गिरफ्तार

हैदराबाद पुलिस ने हवाला के तहत जब्त की 90,50,400 रुपये की राशि

साइबराबाद पुलिस आयुक्त वीसी सज्जनार ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बताया कि दिल्ली स्थित कंपनी रजिस्ट्रार कार्यालय में पंजीकृत के ईबिज के डाट कॉम प्रतिनिधि मल्टी लेवल मार्केटिंग की आड़ में शिक्षित बेरोजगार, युवाओं, घरेलू महिलाओं और सेवानिवृत्त कर्मियों को अपना शिकार बनाया।

उन्होंने बताया कि कंपनी पहले शैक्षणिक संस्थानों में मोटिवेशनल लेक्चर के जरिए कंपनी का प्रचार कर बेरोजगार युवाओं को कंपनी का सदस्य बनाया और मल्टीलेवल मार्केटिंग की चेन बनाते हुए कम समय में काफी पैसा बनाने का झांसा दिया। कंपनी में सदस्य बनने वाले प्रत्येक व्यक्ति को निर्धारित 16821 एक अदा कर मल्टीलेवल मार्केटिंग की श्रृंखला आगे बढ़ाने के लिए तीन और सदस्यों को बनाने को कहा गया।

इस प्रकार सदस्य बनाने वालों के लिए विभिन्न प्रकार के स्तर जा रहे थे, जिसमें गोल्ड, गोल्ड डायमंड, डिप्लोमा, डिप्लोमा डिप्लोमा, डिप्लोमेट अंबासिडक, सिल्वर अंबासिडरआदि शामिल है। इसके अलावा सदस्य बनने पर कंपनी की ओर से कुछ प्रोडक्ट देने के अलावा कंप्यूटर प्रशिक्षण, स्कूल बुक आदि भी दिए जा रहे थे। श्रृंखला को आगे बढ़ाने वाले सदस्यों को उनके स्तर के आधार पर कमिशन का भुगतान बैंक डिमांड ड्राफ्ट के रूप में किया जा रहा था। इस प्रकार जो सदस्य पांच का सदस्य बना था। उसे ऑर्बिट में शामिल कर 3 से लेकर 9 प्रतिशत का कमीशन भी दिया जा रहा था।

सज्जनार ने बताया कि कंपनी ने हैदराबाद बेंगलुरु, चेन्नई, जम्मू कश्मीर, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु व आदि राज्यों से सात लाख से अधिक सदस्य बनाकर लगभग एक करोड रुपए की ठगी की है।

उन्होने बताया कि कुंदन बाग निवासी और जगित्याल के रहने वाले छात्र विवेक द्वारा की गई शिकायत के आधार पर माधोपुर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पड़ताल की। जांच पड़ताल में मल्टीलेवल मार्केटिंग का खुलासा होने पर पुलिस ने कानूनी कार्रवाई कर कंपनी के प्रतिनिधियों को गिरफ्तार किया। उन्हें बताया इस मामले में शामिल और लोगों को भी गिरफ्तार किया जाएगा