करीमनगर : तेलंगाना कांग्रेस के नेता पोन्नम प्रभाकर ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने भारतीय जनता पार्टी के साथ गुप्त समझौता करके फेडरल फ्रंट और तृतीय फ्रंट के नाम पर लोगों को गुमराह कर रहे है। पोन्नम ने रविवार को मीडिया से यह बात कही।

उन्होंने आगे कहा कि देश की राजनीति में केसीआर की भूमिका शून्य है। केसीआर की झूठी बातों की चक्कर में पड़कर तेलंगाना के साथ कोई भी अन्याय न करें। कांग्रेस के नेता ने कहा कि आने वाले संसद चुनाव राहुल गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच है। केसीआर तो बीजेपी के एजेंट का काम कर रहे है।

पोन्नम ने मांग की है कि तेलंगाना के सांसदों ने तेलंगाना के लिए क्या हासिल किया है इस पर एक श्वेतपत्र जारी करें। तेलंगाना सरकार ने क्या हासिल किया है यह बताकर ही वोट मांगे।

यह भी पढ़ें:

पोन्नम प्रभाकर ने कहा- KCR के झूठे वायदों पर कांग्रेस बनाएगी फिल्म

‘तेलंगाना के नेताओं को राज करना नहीं आता’ इस बात को KCR ने सच कर दिखाया : पोन्नम

इससे पहले भी पोन्नम प्रभाकर ने कहा था कि केंद्र सरकार ने पंरपंरा के विरोध वोट ऑन अकाउंट बजट के बदले लोगों को आकर्षित करने वाला बजट पेश किया है। मुझे लगता है कि केंद्र का यह बजट केवल वोटों के लिए पेश किया गया है।

पोन्नम ने मीडिया से आगे कहा, "पांच लाख को आय कर से छूट देकर बड़ी-बड़ी बातें बोली जा रही है। साल 2014 में 2.50 लाख तक आय कर सीमा को बढ़ाया गया था। यदि ऐसी बात है तो इन चार सालों में हर साल आय कर सीमा को बढ़ाना चाहिए था। साल 2019-20 से इसकी अमलावरी की बात कह रहे है।"

प्रभाकर ने कहा कि इन चार सालों में जीएसटी, नोट बंदी और इंधन के दामों में आये उतार-चढ़ाव से जन सामान्य को किसी प्रकार का लाभ नहीं हुआ है। यह बजट केवल खोदा पहाड़ निकली चुहिया जैसा है।

पोन्नम ने आरोल लगाया कि बीजेपी सरकार ने सभी व्यवस्थाओं का सर्वनाश किया है। उन्होंने सवाल किया कि तेलंगाना के 15 सांसद हैं। उन्होंने सवाल किया कि इन पांच सालों में विभाजन के आश्वासनों की अमलवारी को लेकर इन सांसदों ने आवाज क्यों नहीं उठाई है? मोदी के शासनकाल में देश की जनता को कुछ भी हासिल नहीं हुआ है। किसानों और छोटे व्यापारियों को कुछ भी हासिल नहीं हुआ है।