हैदराबाद : सत्तारुढ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने शुक्रवार को दावा किया कि केंद्रीय बजट में किसानों के लिए घोषित न्यूनतम आय उनके राज्य की ‘रैतु बंधु' योजना की नकल है और उसे थोड़े-बहुत बदलाव के साथ पेश किया गया है।

टीआरएस ने यह भी कहा कि आम बजट में राजनीति, आर्थिक पक्ष पर हावी रही है लेकिन मई में होने वाले लोकसभा चुनाव में इससे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के पक्ष में वोट नहीं जायेंगे।

इसे भी पढ़ें :

Budget 2019 : आयकर में बढ़ी छूट की सीमा, 5 लाख तक नहीं देना होगा टैक्स

केंद्रीय बजट पर YSRCP सांसद बोले-प्रदेश को निधि आवंटन नहीं होने से निराशा

टीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के बेटे के टी रामाराव राव ने कहा, ‘‘जैसा कि वे कहते हैं, नकल मिथ्या प्रशंसा का सबसे अच्छा रूप है।'' वह प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का जिक्र कर रहे थे जिसके तहत दो हेक्टेयर तक जमीन वाले किसानों के खातों में 6,000 रुपये अंतरित किये जाएंगे।

रामाराव ने कहा कि केंद्र ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के दिमाग की उपज रैतु बंधु योजना को उठाया है। उन्होंने कहा, ‘‘उसने उसमें थोड़ा बदलाव किया है और अच्छा कार्यक्रम बना दिया है जिससे किसान लाभान्वित होंगे। काश उसने उसे हुबहू अपनाया होता। उसने कुछ बंदिशें लगा दी हैं, उसने कहा कि दो हेक्टेयर तक जमीन वाले किसानों को साल में वह 6000 रुपये देगी।'