हैदराबाद : तेलंगाना में कांग्रेस पार्टी को जल्द ही एक बड़ा झटका लगने की उम्मीद है। राजनीतिक गलियारों में चर्चा के दौरान बताया जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता और भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन चल रही लगाना राष्ट्रीय समिति के पाले में जाने वाले हैं।

ऐसा इसलिए माना जा रहा है कि सिकंदराबाद सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने के ऑफर के बाद अजहरुद्दीन ने कांग्रेस पार्टी को छोड़कर तेलंगाना राष्ट्र समिति को अपनाने का फैसला करने का मन बना रहे हैं। ऐसी बात को हवा इस बात से मिल रही है कि अजहरुद्दीन के एक करीबी और ने टीआरएस ज्वाइन कर लिया है और वह उनके लिए पैरवी कर रहे हैं।

आपको बता दें कि मोहम्मद अजहरुद्दीन तेलंगाना की मल्काजगीरी लोकसभा सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन इस बात को लेकर पार्टी के अंदर विरोध शुरू हो गया था। तब से अजहरुद्दीन अपने आप को कांग्रेस पार्टी में उपेक्षित महसूस कर रहे हैं ।

हालांकि कांग्रेस पार्टी में विधानसभा चुनाव के दौरान अजहरुद्दीन को कांग्रेस पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया था ताकि उन्हें कमलेश में बरकरार रखा जा सके।

इसे भी पढ़ें :

अजहरुद्दीन के इस बयान से तेलंगाना कांग्रेस में घमासान

मुसलमानों को रिझाने के लिए कांग्रेस ने अजहरुद्दीन को बनाया कार्यकारी अध्यक्ष

अभी कुछ दिन पहले मोहम्मद अजहरुद्दीन असदुद्दीन ओवैसी की बेटी की शादी में टीआरएस प्रमुख के. चंद्रशेखर राव से मिले थे । ऐसा माना जा रहा है कि इस मीटिंग के दौरान अजहरुद्दीन और केसीआर के बीच इस मुद्दे पर चर्चा हुई है और उन्हें सिकंदराबाद सीट से लोकसभा का उम्मीदवार बनाया जा सकता है।

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी के टिकट पर लोकसभा में उत्तर प्रदेश की मोरादाबाद सीट से वह 2009 में सांसद चुने गए थे, पर वह 2014 में राजस्थान से चुनाव हार गए थे। तब से वह अपने आप को तेलंगाना तक ही सीमित कर लिया है।

हालांकि, इस मामले पर अजहरूद्दीन ने सीधे सीधे कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, लेकिन जिस तरह से राजनीतिक हालात बदल रहे हैं। उससे इस बात की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।