हैदराबाद: महेश बाबू ने GST अधिकारियों की कार्रवाई पर सवाल करते हुए कहा कि कर का भुगतान करने पर अधिकारी किस बिनाह पर बैंक खाता सीज करेंगे। अधिकारियों की कार्रवाई पर महेश बाबू के लिगल टीम ने आखिरकार अपनी प्रतिक्रिया दी।

कर का मामला न्यायालय में विचाराधीन होने पर बैंक खाता कैसे सीज किया जा सकता है। कानून के मुताबिक महेश बाबू ने समय पर कर का भुगतान किया है। यह जानकारी उन्होंने एक विज्ञप्ति के माध्यम से दी है।

प्रेस नोट
प्रेस नोट

GST के अधिकारियों ने वित्तीय वर्ष 2007-08 के लिए अंबेसिडर सेवाओं के लिए कर का भुगतान करने का आदेश दिया। वास्तव में इस अवधि का काल अंबेसिडर सेवा के लिए किसी भी तरह की टैक्स परिधि में नहीं आता। इस टैक्स को सेक्शन 65 (105) (zzzq) के तहत वर्ष 2010 की 1 जनवरी से माना गया।

इसे भी पढ़ें:

अभिनेता महेश बाबू के बैंक खाते फ्रीज, यह हैं कारण

कर दाता कानून के अधीन किसी भी प्रकार की पूर्व सूचना दिए बिना और यह मामला न्यायालय के विचाराधीन होने पर GST आयुक्तालय ने बैंक खाता सीज करने के आदेश दिये। इस पर महेश बाबू के कानूनी सलाहकार की टीम ने कहा कि महेश बाबू ने कर का भुगतान समय पर सुचारू रूप से किया है।