हैदराबाद : केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने रविवार को कांग्रेस, टीआरएस और तेदेपा को ‘प्राइवेट लिमिटेड पार्टियां' बताते हुए तेलंगाना में सरकार बदलने की बात कही। उप्पल में यहां एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए गडकरी ने दावा किया कि सिर्फ भाजपा ही एकमात्र लोकतांत्रिक पार्टी है जहां उनके जैसा छोटा कार्यकर्ता पार्टी का अध्यक्ष और एक चाय वाला देश का प्रधानमंत्री बन सकता है।

जहाजरानी एवं सड़क परिवहन केंद्रीय मंत्री ने तेदेपा प्रमुख और आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू की आलोचना कांग्रेस से हाथ मिलाने के कारण की है। तेदेपा और कांग्रेस पहले एक-दूसरे की प्रतिद्वंद्वी थीं लेकिन सात दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए दोनों पार्टियां साथ आई हैं। गडकरी ने कांग्रेस, तेदेपा, तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) और भाकपा के बीच के गठबंधन ‘प्रजाकुटमी' (पीपल्स एलियांस) को अवसरवादी बताया। उन्होंने कहा, ‘‘यह गठबंधन सिर्फ स्वार्थ के लिए बनाया गया है।

इसे भी पढ़ें ;

‘रजाकारों की पार्टी’ के पैरों पर गिरने वाले दल कभी तेलंगाना का भला नहीं कर सकते : अमित शाह

उनके विचारों में कोई तालमेल नहीं है...सरकार चलाना कोई खेल नहीं है।'' भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि कांग्रेस और टीआरस पारिवारिक पार्टी है। गडकरी ने आरोप लगाया, ‘‘ कांग्रेस गांधी परिवार की प्राइवेट लिमिटेड पार्टी है और तेलंगाना राष्ट्र समिति चंद्रशेखर राव की प्राइवेट लिमिटेड पार्टी है। ये लोकतांत्रिक पार्टियां नहीं हैं और ठीक इसी तरह से चंद्रबाबू नायडू ने भी अपनी पार्टी को प्राइवेट लिमिटेड बना दी।''