मुख्यमंत्री KCR के जिले में विरोधी दलों को जीतने के लिए लगाना होगा एड़ी चोटी का जोर

डिजाइन फोटो - Sakshi Samachar

हैदराबाद : मेदक जिले से अलग होकर बनाए गए सिद्दीपेट जिले की सीमा कामारेड्डी, राजन्ना सिरिसिल्ला, करीमनगर, वरंगल अर्बन, जनगाम, यादाद्रीभुवनगिरि, मेड्चल और मेदक जिलों की सीमा से जुड़ती है। जिले में कुल मतदाताओं की संख्या-8,41,842 है जिसमें पुरुष-4,18,711 और महिलाएं-4,23,091 हैं। यह जिला राज्य का एक प्रमुख वाणिज्यिक केंद्र है। जिले में प्रसिद्ध कुमरवेल्ली मंदिर और कोंडा लक्ष्मण बापूजी हार्टिकल्चर विश्वविद्यालय है।

जिले में मल्लन्ना सागर प्रोजेक्ट का निर्माण किया जा रहा है और यहां कर्कपट्ला औद्योगिक पार्क बनाया जा रहा है। इसके अलावा जिले में राज्य का पहला एजुकेशन हब भी बनाया जा रहा है। जिले के वर्गल में देवी सरस्वती का मंदिर है। तेलंगाना के पहले मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव का जन्म भी इसी जिले के चिंतमड़का गांव में हुआ था। जिले का चिर्याल शहर स्क्रोल पेंटिंग के लिए विश्वप्रसिद्ध है।

01. गजवेल

1952 में गठित गजवेल विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में में कुल मतदाताओं की संख्या-2,27,934 है जिसमें पुरुष-1,14,362 और महिलाएं-1,13,554 हैं। 2014 के विधानसभा चुनाव में कल्वाकुंट्ला चंद्रशेखर राव टीडीपी के वोंटेरु प्रताप रेड्डी को हराया था। 2014 में गजवेल विधानसभा क्षेत्र में कई विकास कार्य किए गए हैं, जिसमें एजुकेशन हब, आउटर रिंग रोड, मिशन भगीरथ का काम तेजी से चल रहा है।

मल्लन्ना सागर के विस्थापितों को पर्याप्त मुआवजा अभी तक नहीं मिला है। डबल बेडरूम भी अभी पूरे नहीं हुए हैं। इस बार चुनाव में केसीआर का मुकाबला कांग्रेस नेता वोंटेरु प्रताप रेड्डी, भाजपा की आकुला विजया और बीएलएफ के श्रीरामुलू श्रीनिवास से है।

02.सिद्धीपेट

सिद्धीपेट विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 1952 में बना है। इस क्षेत्र में कुल मतदाताओं की संख्या-2,05,802 है जिसमें पुरुष-1,02,403 और महिलाएं-1,03,385 हैं। हरीश राव का राजनीतिक करियर 2004 से शुरु हुआ। 2004 से 2014 तक के चुनाव में उन्होंने पांच बार चुनाव में जीता है। दो बार मंत्री भी रहे। टीआरएस पार्टी में हरीश राव को ट्रबुल शूटर कहा जाता है। तेलंगाना अंदोलन में हरीश राव ने मुख्य भूमिका निभाई थी।

हरीश राव, टीआरएस विधायक

2014 के विधानसभा चुनाव के बाद वह सिंचाई मंत्री बनाए गए। कालेश्वरम सहित कई परियोजनाएं शुरू करने में उनकी खासी भागीदारी रही। 2014 के विधानसभा चुनाव में टीआरएस के टी.हरीश राव ने तांडुरी श्रीनिवास गौड़ को हराया था। 2018 के चुनाव में टी. हरीश राव का सामना कांग्रेस के भवानी रेड्डी, भाजपा के नायनी नरोत्तम रेड्डी और ग्यादरी जगन से है।

03. डुब्बका

दुब्बका विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 2008 में बना है। इस क्षेत्र में कुल मतदाताओं की संख्या-187,866 है जिसमें पुरुष- 92,453 और महिलाएं-95,413 हैं। 2014 के विधानसभा चुनाव में टीआरएस के सोलिपेटा राम लिंगा रेड्डी ने कांग्रेस के उम्मीदवार चेरुकु मुत्यमरेड्डी के हराया था। 2009 के विधानसभा चुनाव में चेरुकु मुत्यमरेड्डी ने जीता था। 2014 के विधानसभा चुनाव में सोलिपेट रामलिंगा रेड्डी ने जीतकर विधानसभा में एस्टीमेशन कमेटी के चेयरमैन बने। रामलिंगा रेड्डी के बेटा पर बेनामी कांट्रैक्टर का आरोप है।

सोलिपेटा राम लिंगा रेड्डी

मल्लन्ना सागर परियोजना इसी विधानसभा क्षेत्र में बनाया जा रहा है, जिसका किसान कड़ा विरोध कर रहे हैं। 2018 के चुनाव में टीआरएस के सोलीपेटा रामलिंगा रेड्डी का मुकाबला कांग्रेस के राज कुमार, बीजेपी के एम. रघुनंदन राव और बीएलएफ के भास्कर राव से है।

-बी. गोपाल (साक्षी स्कूल ऑफ जर्नलिज्म)

Advertisement
Back to Top