हैदराबाद : तेलंगाना में राजनीतिक दलों के नेताओं ने एक-दूसरे के खिलाफ व्यक्तिगत आपत्तिजनक टिप्पणी और अभद्र भाषा का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में चुनाव प्रचार के दौरान अभद्र भाषा के इस्तेमाल को लेकर मिलीं शिकायतों पर चुनाव आयोग ने पहल करनी शुरू कर दी है।

मुख्य चुनाव अधिकारी रजत कुमार ने बताया कि टीआरएस के वरिष्ठ नेता हरीश राव, कांग्रेसी नेता रेवंत रेड्डी, प्रताप रेड्डी, तेदेपा नेता रेवूरी प्रकाश रेड्डी को नोटिस जारी कर अगले 48 घंटे में नोटिस का जवाब देने के आदेश दिया गया है।

इस मौके पर रजत कुमार ने चुनाव आयोजन की तैयारियों व उम्मीदवारों के संदेहों के बारे में विवरण दिया। चुनाव के लिए अब तक राज्यभर में 32,500 मतदान केंद्रों की व्यवस्था किए जाने की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि उम्मीदवार फार्म ए और फार्म बी भरने के तौर-तरीके पूछ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि फार्म ए मुख्य चुनाव अधिकारी के पास और फार्म बी आरओ के पास सौंपना होगा। उन्होंने बताया कि मेनिफेस्टो की प्रतियों में तेलुगु सहित इंग्लिश या हिन्दी में देना होता है। उन्होंने बैलेट बॉक्स और वोटर स्लिप से संबंधित शंकाओं को दूर किया। उन्होंने कहा कि बैलेट सफेद और वोटर स्लिप गुलाब रंग की होती है।

इसे भी पढ़ें :

तेलंगाना में कांग्रेस की पहली सूची में 74 उम्मीदवार, 26 सीटों पर लड़ेंगे अन्य दल

मुख्यमंत्री KCR के जिले में विरोधी दलों को जीतने के लिए लगाना होगा एड़ी चोटी का जोर

उन्होंने राज्यभर में अब तक 64.36 करोड़ की नकदी के साथ 5 करोड़ रुपए की शराब जब्त की गई है। 77,384 बाइंडोवर हो चुके हैं तथा सीआरपीसी के तहत 14,730 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि नेताओं को अपनी भाषा पर नियंत्रण रखना चाहिए।

उन्होंने बताया कि कुछ लोगों ने मेनिफेस्टो सौंपे हैं, लेकिन उन्हें एक सुनिश्चित पद्धति में सौंपनी चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान दर्ज हुए मामलों के विषय में चुनाव के बाद साक्ष्यों के सामने नहीं आने से उनकी सुनवाई नहीं हो पा रही है। हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि इस बार के चुनावी खर्च के मामले में सख्ती बरती जाएगी।