हैदराबाद : तेलंगाना मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) रजत कुमार ने कहा कि चुनावी घोषणा के बाद आचार संहिता लागू हो गई है। सभी सरकारी अधिकारियों और राजनीतिक दलों के साथ साथ आम जनता को भी इस बात का ध्यान रखना है कि वो कोई ऐसा काम नहीं करें कि जिससे आचार संहिता का उल्लंघन हो।

तेलंगाना के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने शनिवार को मीडिया से कहा कि सरकारी कार्यालय पर लगाये गये फ्लैक्सी, सरकारी भवनों और सार्वजिनक संस्थाओं पर स्थापित प्रचार सामग्री को हटा दिया जाएगा। कोई भी नेता अधिकारी सरकार वाहन का इस्तेमाल न करें। 24 घंटे तक काम करने वाले कंट्रोल रूम को भी स्थापित किया गया है। साथ ही शिकायतों के लिए नंबर 1950 को भी स्थापित किया गया है।

यह भी पढ़ें :

निर्वाचन आयोग ने किया विधानसभा चुनावों का ऐलान, 11 दिसंबर को आएंगे नतीजे

तेलंगाना विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद भी सस्पेंस बरकरार!

उन्होंने बताया कि नये सरकारी कार्यालयों का निर्माण भी न करें। साथ ही प्रचार, खर्चा, रकम, शराब, ड्रग्स आदि पर निगरानी रखी जाएगी। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट ने कहीं पर भी चुनाव पर रोक लगाने की बात नहीं कही है।

उन्होंने कहा कि नियम के अनुसार अतिरिक्त कर्मचारियों को नियुक्त किया जाएगा। कोई भी उम्मीदवार या नेता रात 10 से सुबह 6 बजे तक चुनाव प्रचार न करें। उन्होंने कहा कि अब तक एक करोड़ रुपये बरामद किया गया है।

रजत कुमार ने कहा कि मतदाता सूची में नामांकन दर्ज करने की निरंतर चलने वाली प्रकिया है। दस दिन पहले भी वोटर लिस्ट में कोई व्यक्ति अपना नाम दर्ज करवा सकते है। उन्होंने कहा कि वोटर कार्ड जारी करने का काम शुरू हो चुका है। योग्य व्यक्तियों को वोटर कार्ड दिया जाएगा।

उन्होंने यह भी बताया कि चुनावी आचार संहिता के उल्लंघन किये जाने के अनेक शिकायतें मिल रही हैं। यदि सरकारी वेबसाइटों पर सीएम के फोटो पाये जाते है तो जांच करके आवश्यक कदम उठाया जाएगा। इसी तरह सोशल मीडिया पर आने वाले शिकायतों पर भी कार्रवाई की जाएगी।