निजामाबाद : तेलंगाना के निजामाबाद जिले में भूमि विवाद के चलते महिला को लात मारने के आरोप में पुलिस ने सोमवार को स्थानीय ग्रामीण निकाय के प्रमुख को गिरफ्तार कर लिया।

जिले के इंदलवाई मंडल के गौरारम गांव में एक महिला को एमपीपी के लात मारने से तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक इंदलवाई मंडल के गौरारम गांव निवासी वड्डे राजव्वा ने स्थानीय एमपीपी दर्पल्ली इम्मडी गोपी के पास कृषि भूमी और उसमें बने मकान खरीदा था। राजव्वा ने इम्मडी गोपी पर समझौते के मुताबिक रुपये देने के बाद भी अतिरिक्त रुपये की मांग करने का आरोप लगाया।

इसी क्रम में राजव्वा अपने परिवार और रिश्तेदारों के साथ इंदलवाई में एमपीपी गोपी के घर पहुंची और जमीन को लेकर उसके साथ झगड़े पर उतर गई। उसने एमपीपी पर चप्पल से हमला कर दिया। जवाब में चबूतरे पर खड़े गोपी ने राजव्वा को जोर से लात मार दिया, जिससे वह जमीन पर गिर गई। इसपर बगल में खड़े राजव्वा के रिश्तेदारों ने गोपी को रोक लिया।

पीड़ित महिला राजव्वा के मुताबिक इंदलवाई में राष्ट्रीय राजमार्ग के बगल में गोपी की 1125 गज जमीन है। गोपी ने उक्त जमीन पर बना मकान भी 50 लाख रुपये में देने की पेशकश की। समझौता 33 लाख 72 हजार रुपये में हुआ और रिजिस्ट्रेशन भी हो गया। जमीन के दाम के भुगतान के बावजूद पिछले 11 महीने से गोपी अतिरिक्त रुपये देने की मांग करते हुए मकान और कृषि भूमि खाली नहीं कर रहा था।

इसे भी पढ़ें :

मप्र में कार-डंपर की भिड़ंत, पांच की मौत

इसी क्रम में गोपी बेचे हुए मकान और जमीन के पास आया उसमें रखे राजव्वा के सामान घर से बाहर फेंक दिया। उस वक्त पुलिस मौके पर होने के बाद भी चुप्पी साधी रही। पीड़ित महिला ने आरोप लगाया है कि गोपी खुद को पूर्व नक्सली बताकर डरा-धमका रहा है। पीड़िता ने कहा कि अगर उसके बच्चों को कुछ भी होता है तो उसके जिम्मेदार एमपीपी गोपी होगा। उसने बताया कि जब वह इस मामले को सब-इंस्पेक्टर, पुलिस आयुक्त,जिलाधीश और विधायक के सामने रखा तो उन्होंने रुपये देकर खरीदे हुए मकान में रहने की सलाह दी थी, लेकिन उसके बाद भी उनके साथ नाइंसाफी हुई।