पीयूष गोयल ने CAA के खिलाफ प्रस्ताव लाने के KCR के फैसले की आलेचना की, बोले- वापस लें

सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर शाटलाईट रेलवे स्टेशन का शुभारंभ करते हुए पीयूष गोयल। साथ में अन्य - Sakshi Samachar

हैदराबाद : केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने तेलंगाना विधानसभा में सीएए विरोधी प्रस्ताव लाने की आलोचना करते हुए मंगलवार को कहा कि मुद्दे का ‘छोटे राजनीतिक आधारों' पर राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए। साथ में उन्होंने राज्य सरकार से प्रस्ताव को वापस लेने को कहा।

आपको बता दें कि हाल ही में मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के नेतृत्व वाले राज्य के मंत्रिमंडल ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ एक प्रस्ताव विधानसभा से पारित करने का निर्णय किया और केंद्र से इस संशोधित कानून को रद्द करने का आग्रह किया।

रेल मंत्री ने यहां पत्रकारों से कहा, “संघीय ढांचे में, राज्यों को राष्ट्रीय कानूनों को लागू करना होता है और मैं तेलंगाना सरकार से आग्रह करता हूं कि छोटे राजनीतिक आधारों या तुष्टीकरण आधारों पर मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करें।” उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को प्रस्ताव लाने के फैसले को वापस लेना चाहिए। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्हें तब खुशी हुई थी जब दिल्ली में हाल में हुए एक कार्यक्रम में तेलंगाना के मंत्री के टी रामाराव ने केंद्र और राज्य के साथ मिलकर काम करने के बारे में अपनी बात रखी थी।

यह भी पढ़ें :

CAA के विरोध में प्रस्ताव पारित कर केसीआर ने किया संविधान का उल्लंघन : डॉ लक्ष्मण

सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर शाटलाईट रेलवे स्टेशन का शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जी किशन रेड्डी

गोयल ने आगे कहा, “लेकिन यहां, 16 फरवरी को मंत्रिमंडल ने एक आधारहीन प्रस्ताव पारित किया है। मैं चाहूंगा कि सरकार इसे वापस ले।” मंत्रिमंडल की बैठक में ऐसा महसूस किया गया कि सीएए नागरिकता देने में धर्म के आधार पर भेदभाव करता है और संविधान में परिकल्पित धर्मनिरपेक्षता को खतरे में डालता है।

सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर शाटलाईट रेलवे स्टेशन का शुभारंभ में उपस्थितपीयूष गोयल। साथ में अन्य

इससे पहले, गोयल ने यहां सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर शाटलाईट रेलवे स्टेशन का शुभारंभ किया। इस स्टेशन के लिए केंद्र सरकार ने 221 करोड़ रुपये जारी किये है। इस के अलावा गोयल ने अनेक विकास कार्यों का भी शुभारंभ किया।

आपको बता दें कि तेलंगाना सरकार ने संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ विधानसभा में एक प्रस्ताव पास करने का फैसला लिया। ऐसा माना जा रहा है कि आगामी 24 फरवरी को तेलंगाना सरकार इस प्रस्ताव को विधानसभा में पास कराएगी।

मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की अध्यक्षता में रविवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में सीएए को रद्द करने का प्रस्ताव पारित किया गया। 24 फरवरी से आरंभ हो कर दस दिन तक चलने वाले विधानसभा सत्र में इस प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने की पूरी संभावना है।

Advertisement
Back to Top