हैदराबाद : भारतीय जनता पार्टी के विधायक और हैदराबाद के चर्चित नेता टी राजा सिंह ने कहा है कि उनकी बातचीत कर को तोड़ मरोड़ कर मीडिया में पेश किया गया है। इस बात के लिए उन्होंने मंगलवार को पार्टी मुख्यालय पर संवाददाता सम्मेलन कर के सफाई भी दी।

हैदराबाद की बहुचर्चित सीट गोशामहल के विधायक टी राजा सिंह ने पार्टी मुख्यालय पर कहा कि मीडिया के तीन चार मित्रों से उनकी बातचीत हुई थी। जिसमें उन्होंने पार्टी के कुछ बड़े नेताओं को लेकर आपस में अनौपचारिक रूप से चर्चा की थी। लेकिन इन बातों को तोड़ मरोड़ कर मीडिया में पेश किया गया। जिस पर उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि उनका पार्टी के नेताओं से कोई मतभेद नहीं है।

किशन रेड्डी के उनके निर्वाचन क्षेत्र में हुए दौरे को लेकर जो भी बातें कही जा रही हैं वो सब मनगढ़ंत है। उन्होंने केवल इस बारे में अनौपचारिक रूप से चर्चा की थी। उन्होंने केवल यह कहा था कि किशन रेड्डी साहब उनके निर्वाचन क्षेत्र में आए और चले भी गए।

यह भी पढ़ें :

राजा सिंह ने पवन कल्याण को दी चेतावनी, मांगें माफी वरना ...

राजा सिंह ने कहा कि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ के लक्ष्मण हो या जी किशन रेड्डी या किसी से भी कोई मतभेद नहीं है। सारे लोगों स् उन्हें पार्टी में सहयोग मिलता है। राजा सिंह ने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मैं अपना राजनीतिक गुरु मानते हूं और पार्टी में उन्हीं के जैसा काम करने की कोशिश करते हूं।

आपको बता दें कि तेलंगाना के गोशामहल विधायक टी राजा सिंह राजा सिंह ने मंगलवार को अनौपचारिक रूप से कहा था कि मेरी हार के लिए कुछ वरिष्ठ नेता कोशिश करें तो कार्यकर्ता मात्र मेरी जीत के लिए कड़ी मेहनत की हैं। विधायक ने यह भी कहा कि डॉ के लक्ष्मण के हार का मुख्य कारण अध्यक्ष पद ही रहा है। क्योंकि अध्यक्ष पद पर होने के कारण लक्ष्मण चुनाव में जीत पर ध्यान नहीं दे पाये।

उन्होंने कहा था कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी प्रोटोकॉल का पालन नहीं कर रहे हैं। मेरे निर्वाचन क्षेत्र में आने के दौरान मुझे इसकी जानकारी तक नहीं दे रहे हैं। जब बंडारू दत्तात्रेय केंद्रीय मंत्री थे, तब प्रोटोकॉल का पालन किया जाता था।

यह भी पढ़ें :

राजा सिंह ने पवन कल्याण को दी चेतावनी, मांगें माफी वरना ...

विधायक राजा सिंह ने यह भी कहा था कि तेलंगाना बीजेपी पद के लिए डीके अरुणा, अरविंद और बंडी संजय योग्य नेता हैं। मगर मुझे अध्यक्ष पद की कोई लालसा नहीं है। राजा सिंह ने बताया कि मेरा राजनीतिक गुरु उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं। गोशामहल विधायक के इस बयान पर देश में बवाल मचा है। विधायक राजा सिंह ने अब इस बवाल का स्पष्टीकरण दिया है।