हैदराबाद, पूर्व एमएलसी और प्रो के नागेश्वर राव ने गुरुवार को इंदिरा पार्क के पास वामदलों द्वारा आयोजित आरटीसी हड़ताल के समर्थन में शुरू किये अनशन को आरंभ किया। इस अवसर पर नागेश्वर राव ने तेलंगाना सरकार से कहा, "यदि आपको आरटीसी को चलाना नहीं आता है तो मुझे दो। मैं हजारों करोड़ों के लाभ में आरटीसी को चलाकर बताऊंगा।" उन्होंने कहा कि तमिलनाडु की तरह डिजल के दामों को सरकार देती है तो आरटीसी को नुकसान नहीं होगा। सरकार आरटीसी को एक पैसा भी नहीं दिया गया तो भी पर्वा नहीं है। मगर उसके लाभ को न ले तो काफी है।

नागेश्वर राव ने कहा कि आरटीसी हर साल डिजल पर 1300 करोड़ खर्च कर रही है। साथ ही 300 करोड़ रुपये कर के रूप में भुगतान कर रही है। नुकसान उठा रही आरटीसी पर कर वसूल करने वाला तेलंगाना ही एक मात्र राज्य है। निजी बसों को नियंत्रित किया गया तो आरटीसी लाभ में चलेगी। तेलंगाना सरकार अब तो भी झूठा प्रचार करना बंद कर दें।

केसीआर बनाम तेलंगाना समाज

इस अवसर पर सीपीएम के सचिव तम्मिनेनी वीरभद्रम ने कहा, "आरटीसी की हड़ताल इस समय सीएम केसीआर बनाम तेलंगाना समाज के रूप मे तैयार हो गया है।" उन्होंने कहा कि तेलंगान समाज इस समय बसों के नहीं होने के कारण अनेक मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। पुलिस भी आरटीसी की हड़ताल को न्याय सम्मत कह रहे हैं। मुख्यमंत्री केसीआर के रवैये के कारण तेलंगाना में अंधकार छा रहा है। लोकतंत्र खतरे में पड़ गया है।

यह भी पढ़ें:

TSRTC Strike: हड़ताल को TNGO का मिला समर्थन, दी यह चेतावनी

TSRTC Srike: 13वें दिन भी जारी, अनेक जगहों पर गिरफ्तारियां और सामूहिक अनशन

केसीआर अहंकार

इस दौरान सीपीआई के सचिव चाडा वेंकट रेड्डी ने कहा कि केसीआर अहंकार में जी रहे है। आरटीसी के पांच कर्मचारियों की मौत हो जाने पर भी केसीआर में इंसानियत नहीं जागी है। केसीआर ने कर्मचारियों के दुश्मन हो गये है। हड़ताल को तोड़ने का षड्यंत्र रच रहे हैं। इस अवसर पर आरटीसी जेएसी नेताओं ने भी अपने विचार व्यक्त किये।यह भी पढ़ें:

Telangana High Court ने हड़ताली TSRTC कर्मियों से काम पर लौटने को कहा

TSRTC Strike : सरकार या प्रबंधन चर्चा के लिए बुलाये तो जाने को तैयार, मगर...