हैदराबाद : हुजूरनगर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में उपचुनाव का प्रचार चरम पर पहुंच रहा है। सत्तारूढ़ तेरास जोड़-तोड़ कर आंकडों को टटोल रही है। संस्थागत चुनाव के परिणामों को देखने पर लगता है कि तेरास का पलड़ा भारी है।

स्थानीय तौर पर देखा जाए तो कांग्रेस जीत का दावा कर रही है। बीते चुनाव में हुजूरनगर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस ने जीत हासिल की है। टीडीपी और कांग्रेस के बीच पिछले चुनाव में गठबंधन था, जो अब नहीं है। वह भी दावा कर रही है कि हुजूरनगर से चुनाव जीतेगी।

भाजपा ने भी अपना जीत का दावा बोला है। वह मोदी लहर पर विश्वास कर रही है। अन्य पार्टियों के विरोध में चल रहे लोग भाजपा को अपने वोट दे सकते हैं। इसलिए भाजपा हुजूरनगर सीट पर अपना वर्चस्व बनाना चाह रही है। उधर, सीपीआई ने इस उप चुनाव से अपने आप को अलग कर लिया है। पार्टी ने टीआरएस समर्थन नहीं देने का फैसला किया है।

हुजूरनगर उपचुनाव में कार के अनुरूप अन्य चुनाव चिह्न को लेकर टीआरएस पशोपेश में है। इन चिह्नों का असर मतदान पर हो सकता है। 17 अक्टूबर को सीएम केसीआर की हुजूरनगर की आमसभा आयोजित की जाएगी। इस सभा में तेरास अपनी जीत का गठजोड़ लगाएगी।