हैदराबाद : तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) हड़ताल के समर्थन में सर्वदलीय बैठक हुई। तेलंगाना जन समिति के प्रमुख प्रो कोदंडराम की अध्यक्षता में बुधवार को सोमाजीगुड़ा प्रेस क्लब में सर्वदलीय बैठक हुई।

सर्वदलीय बैठक के अध्यक्ष प्रो कोदंडराम ने कहा कि आरटीसी कर्मचारियों की हड़ताल को हम पूरी तरह से समर्थन करते हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि केसीआर के रवैये परिवर्तन नहीं आया तो आरटीसी की हड़ताल का वर्तमान स्वरूप सार्वजनिक हड़ताल में बदल दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें :

CM KCR एक तानाशाह की तरह रवैया अपना रहे हैं : मल्लू भट्टी विक्रमार्क

TSRTC हड़ताल पर और कड़क हुए KCR, अस्पताल में कर्मचारियों के इलाज पर लगाई रोक

अश्वत्थामा रेड्डी
अश्वत्थामा रेड्डी

उन्होंने मांग की है कि आरटीसी को सरकार में विलय किया जाये।उन्होंने कहा कि हड़ताल के समर्थन में गुरुवार को सभी डिपों के सामने रैली, धरना और अन्य विरोध कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। तेलंगाना बंद पर कल घोषणा की जाएगी। सूत्रों से पता चला है कि 19 अक्टूबर को तेलंगाना बंद मनाया जाएगा। इस दौरान राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने का भी फैसला लिया गया।

सीपीआई के सचिव चाडा वेंकट रेड्डी
सीपीआई के सचिव चाडा वेंकट रेड्डी

सीपीआई के सचिव चाडा वेंकट रेड्डी ने कहा कि आरटीसी की हड़ताल को हम पूरी तरह से समर्थन करते हैं। साथ ही हुजूनगर विधानसभा निर्वाचन के उपचुनाव में टीआरएस को दिये गये समर्थन पर पार्टी में विचार विमर्श किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जब हम टीआरएस को समर्थन देने की घोषणा की थी, तब आरटीसी हड़ताल की घोषणा नहीं हुई थी।

बैठक में जस्टिस चंद्रकुमार ने सवाल किया कि कर्ज में डूबी आरटीसी को निजीकरण करने की बात कहने वाले मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव क्या कर्ज के दलदल फंसी तेलंगाना को निजी व्यक्ति को सौपेंगे?

सर्वदलीय बैठक में उपस्थित नेता 
सर्वदलीय बैठक में उपस्थित नेता 

आरटीसी जेएसी के संयोजक अश्वत्थामा रेड्डी ने कहा, "हड़ताल का मुख्य उद्देश्य वेतन पाना नहीं है। आरटीसी की हड़ताल पर मुख्यमंत्री केसीआर हास्यास्पद बयान दे रहे हैं। मगर हमारा उद्देश्य आरटीसी को रक्षा करना मात्र है। आरटीसी में पिछले पांच साल में एक नौकरी की भर्ती नहीं हुई है। कर्मचारियों की बचत की गई पीएफ राशि को उन्हें क्यों नहीं दिया जा रहा है?

उन्होंने कहा कि आरटीसी पर डीजल का भार काफी अधिक हो गया है। 27 फीसदी डीजल पर कर वसूल किया जा रहा है। परिवहन व्यवस्था पर चार फीसदी लोग लोग निर्भर है। सभी लोग हमारे हड़ताल को समर्थन दे रहे है। सभी राजनीतिक दलों ने हमें सहयोग दिया है। जरूरत हुई तो तेलंगाना बंद का आह्वान किय जाएगा।"

उन्होंने कहा कि तेलंगाना हड़ताल आज पांचवें दिन भी जारी है। लोगों को अनेक मुश्किलें हो रही है। दशहरा त्यौहार के बाद वापस लौट आने वाले लोगों को काफी मुश्किलों का सामना पड़ रहा है।

मंदाकृष्णा
मंदाकृष्णा

एमआरपी के अध्यक्ष मंदाकृष्णा ने कहा कि आरटीसी की हड़ताल को हम पहले दिन से ही समर्थन दे रहे हैं। केसीआर दिये गये आश्वासन पर खरा उतरने वाला व्यक्ति नही है। आरटीसी की हड़ताल से एक बार फिर साबित हुई है। आरटीसी को सरकार में विलय करने तक संघर्ष जारी है। केसीआर को पड़ोसी मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी को देखकर भी सीखना चाहिए। आरटीसी घाटे में है तो इसकी जिम्मेदारी सरकार की है।