महबूबनगर : तेलंगाना राज्य में टीआरएस का विकल्प बनने के लिए बीजेपी विशेष कार्ययोजना तैयार कर रही है। पहले से ही राज्य के मंत्री डीके अरुणा, पी चंद्रशेखर, पूर्व सांसद जितेन्द्र रेड्डी, कांग्रेस के विधायक डोकुरू पवन कुमार।

पूर्व विधायक येन्नम श्रीनिवासरेड्डी, पूर्व विधायक और तेदेपा के जिला अध्यक्ष, हरि कृष्णा, पूर्व पार्षद लक्ष्मीदेवी, शिवराम और कई अन्य नेता जिनमें गोविंदयादव, सरोजा, यादय्या, वेंकटेश और श्रीराम जालंधर रेड्डी और कई वरिष्ठ नेता कांग्रेस और टीडीपी से भाजपा में शामिल हुए हैं।

लगातार दूसरी पार्टी के नेताओं के बीजेपी में शामिल होने से बीजेपी की ताकत दिन ब दिन बढ़ती ही जा रही है। दूसरी ओर भाजपा, जो पहले से ही टीडीपी और कांग्रेस पार्टी के नेताओं के आने से सुर्खियों में है। सत्तारूढ़ टीआरएस पार्टी का असंतुष्ट गुट उसे ढंकने की योजना बना रहा है।

विधानसभा, सरपंच, लोकसभा, मंडल और जिला परिषद चुनावों के पूरा होने के साथ, कश्मीरी बल असंतुष्ट टीआरएस नेताओं की पहचान करने की प्रक्रिया में है जो आगामी चुनावों में टिकट मांग रहे हैं।

वहीं बीजेपी असंतुष्टों को अपनी पार्टी में अच्छा पद देने का लालच देकर शामिल करने की कोशिश में लगी है। जैसे-जैसे दिन बीत रहे हैं वहीं कौन कब बीजेपी में शामिल हो जाए कहा नहीं जा सकता, इससे जुड़ी जिज्ञासा भी बढ़ती जा रही है।

वहीं जिले में टीडीपी कैडर के खाली होने से कांग्रेस मानकर चल रही है कि वे सब उसकी पार्टी में शामिल हो सकते हैं। देखा जाए तो कांग्रेस पार्टी पहले से ही नेतृत्व की कमी से जूझ रही है। इसीलिए कांग्रेसी बीजेपी या फिर टीआरएस की ओर ही देख रहे हैं।

वहीं कहा यह भी जा रहा है कि टीआरएस के अधिकार में होने के बाद भी बेहतर भविष्य के लिए बीजेपी की ओर ही असंतुष्ट लोग देख रहे हैं, ऐसी खबरें भी सुनने को मिल रही है। इसी को देखते हुए जिले के कांग्रेस नेता अपनी पार्टी की स्थिति संभालने में लगे हैं।

एक ओर जहां भाजपा पार्टी में दूसरी पार्टियों के नेताओं का जुड़ना जारी है, वहीं दूसरी ओर भाजपा के नेता प्रतिभा पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। वे प्रतिभावान नेताओं को ही अपनी पार्टी में लेना चाह रहे हैं।

भाजपा पार्टी में पढ़े-लिखे व बुद्धिजीवी नेताओं को लेना चाहती है जिससे जनता भी पार्टी में विश्वास कर सके।

इसे भी पढ़ें :

तेलंगाना HC ने ड्यूटी में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को सुनाई जेल की सजा, यह है मामला

गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने भी इस महीने की 11 तारीख को महबूबनगर का दौरा किया। उन्होंने स्थानीय पढ़े-लिखे युवाओं से मुलाकात की। सभी को देश को एक शानदार भारत बनाने के लिए पार्टी की विचारधारा को समझाया।

वहीं खबर मिली है कि जल्द ही बेरोजगार युवाओं और अन्य क्षेत्रों के प्रतिनिधियों के साथ परामर्श करने का निर्णय भी लिया गया है।

देखा जाए तो फिलहाल विधानसभा और संसद चुनाव निपट चुके हैं, पर बीजेपी 2023 में होने वाले चुनावों के मद्देनजर रणनीतिक रूप से चुनाव कराने के लिए सारी तैयारियां अभी से की जा रही है।