हैदराबाद : तेलंगाना विधानसभा में नया नगरपालिका विधेयक को पेश किया है। तेलंगाना सरकार ने नगरपालिकाओं में वार्डों की संख्या को करार करते हुए अध्यादेश के स्थान पर विधेयक को लेकर आई, जिसे विधानसभा ने मंजूरी दी है। मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने गुरुवार को नगरपालिका विधेयक को सदन में पेश किया।

इस अवसर पर केसीआर ने कहा, "तेलंगाना सरकार प्रदेश में प्रशासनिक संस्करण लेकर आ रही है। इस बारे में विधानसभा के सदस्य और जनता भली भांती जानती है। तेलंगाना में 10 जिलों को 33 जिले के बनाये गये हैं। इसी तरह तेलंगाना सरकार ने अनेक विभागों में साहसपूर्ण फैसले लिये हैं।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "पांच हजार नागरिक प्रशासनिक विभागों को स्थापित किया गया है। तेलंगाना गठन से पहले 65 नगरपालिका थे। अब 142 नगरपालिका को स्थापित किया गया है। नये ग्रामपंचायतों को भी स्थापित किये जाने का फैसला लिया गया। इसके लिए विधानसभा की मंजूरी जरूरी है।"

यह भी पढ़ें:

इसलिए गहराता जा रहा है पेयजल का संकट, जानिए दक्षिण भारत का हाल

तेलंगाना कैबिनेट में वृद्धावस्था पेंशन को मंजूरी, होगी लागू अब

केसीआर ने कहा, "तेलंगाना के विकास में कुछ दुष्ट शक्तियां विघ्न डालने की कोशिश कर रहे हैं। पिछली सरकार ने लैंड माफिया का रूप धारण करके दुष्ट शक्तियों को प्रोत्साहन दिया है। प्रदेश का विकास ठीक प्रकास से हो, इसीलिए नया नगरपालिका विधेयक को लेकर आये हैं। मुख्य रूप से नगरपालिका के चुनाव कराने के उद्देश्य से ही नये विधेयक को लेकर आये हैं। शीघ्र ही नगरपालिकाओँ के चुनाव होंगे। मुंसीपल कार्पोरेशन और मुंसीपालिटियों को 2.74 करोड़ रुपये जारी किये जाएंगे।"

इसके बाद तेलंगाना विधानसभा कल तक के लिए स्थगित किया गया है। शुक्रवार को नये नगरपालिका विधेयक पर चर्चा होगी ।