हैदराबाद : तेलंगाना में कई प्रमुख विधेयकों को मंजूरी देने के लिए सरकार ने दो दिवसीय यानी गुरुवार और शुक्रवार को विधायिका का विशेष सत्र आयोजित कर रही है। कांग्रेस के सदस्यों ने कांग्रेस विधायकों के टीआरएस में विलय को लेकर विधायिका का विरोध किया।

लोकतंत्र की रक्षा में प्लेकार्ड दिखा कर कांग्रेस के विधायक सरकार का विरोध कर रहे थे। इस दौरान मुख्यमंत्री केसीआर ने कांग्रेस के विधायकों के विरोध प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया व्यक्त की । उन्होंने स्पष्ट किया कि कांग्रेस के विधायकों के तेरास में विलय संवैधानिक था।

सीएम केसीआर ने याद दिलाया कि आंध्र प्रदेश में टीडीपी सांसदों का भाजपा में विलय हो गया और गोवा में कांग्रेस के सदस्यों का भाजपा में विलय हो गया। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने देश के कमजोर किया है।

इसे भी पढ़ें :

तेलंगाना कैबिनेट में वृद्धावस्था पेंशन को मंजूरी, होगी लागू अब

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव में विपक्ष के सदस्यों ने ईवीएम का कार्यप्रणाली को लेकर संदेह व्यक्त किया। लोगों ने पंचायत चुनाव में बैलट पर लोगों ने तेरास को जीत का सेहरा पहनाया। तेरास के नेतृत्व में बनी तेलंगाना सरकार किसानों को फसल सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली आपूर्ति करती है।