हैदराबाद : तेलंगाना हाई कोर्ट ने विधान परिषद चेयरमैन द्वारा रामुलू नायक और यादव रेड्डी की विधानसभा परिषद की सदस्यता रद्द किए जाने को सही ठहराया। हाई कोर्ट ने कहा कि विधानसभा परिषद चेयरमैन द्वारा लिया गया फैसला कानून के मुताबिक सही है।

आपको बता दें कि रामुलूव नायक और यादव रेड्डी ने यह कहते हुए याचिका दायर की थी कि विधान परिषद चेयरमैन द्वारा उन्हें अयोग्य ठहराते हुए जारी आदेश संविधान के विरुद्ध है। इसी क्रम में उन्होंने यह भी कहा कि जब तक उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर नहीं की जाती, तब तक चुनाव न कराने का आदेश दिया जाए। याचिका पर सुनवाई करने के बाद उच्च हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग से कहा कि इस पर गौर किया जाए।

तेलंगाना से कांग्रेस में शामिल हुए यादव रेड्डी और रामुलू नायक के अलावा एक और सदस्य भूपति रेड्डी को भी अयोग्य ठहराने का टीआरएस ने विधानसभा परिषद के चेयरमैन से आग्रह किया था। इस पर विचार करने के बाद तत्कालीन विधानसभा परिषद के चेयरमैन स्वामी गौड़ ने तीनों को अयोग्य ठहराया।

यह भी पढ़ें :

कास्टिंग काउच पर KCR ने बनाई कमेटी, श्रीरेड्डी ने ऐसे दिया अपना रिएक्शन

विधान परिषद चेयरमैन के इस फैसले को चुनौती देते हुए उच्च न्यायालय में उन्होंने याचिका दायर की। मामले की सुनवाई के बाद उच्च न्यायालय ने अपना फैसला सुनाया। भूपति रेडेडी की याचिका पहले ही सुनवाई हो चुकी है और फैसला सुरक्षित रखा गया है।