हैदराबाद : तेलंगाना भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष डॉक्टर के लक्ष्मण ने कहां की दोनों तेलुगू राज्यों के हित में मिलकर काम करने की घोषणा करने वाले मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और वाईएस जगनमोहन रेड्डी का वे स्वागत करते हैं। लक्ष्मण ने बीजेपी कार्यालय में मीडिया से यह बात कही। उन्होंने आगे कहा कि मगर केसीआर की व्यवहार शैली में राजनीतिक स्वार्थ दिखाई दे रहा है।

उन्होंने बताया कि केसीआर ने पिछले दिनों में जल विवादों का हल निकालने के लिए किसी तरह का कदम उठाए बिना तेलंगाना की जनता को उकसाने का प्रयास कर राजनीतिक लाभ उठा चुके केसीआर अब एक सज्जन व्यक्ति की तरह बातें करते देख उन्हें आश्चर्य हो रहा है।

उन्होंने कहा कि विगत में पोलावरम में जलमग्न होने वाले 7 मंडलों को विलय करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केसीआर ने आलोचना की थी। ऐसा करके केसीआर ने भद्राचलम के जलमग्न होने की आशंका को लेकर केसीआर ने तेलंगाना की जनता को उकसाया था।

लक्ष्मण ने कहा कि पोलावरम के खिलाफ कविता और विनोद कुमार अदालत भी गए थे। मगर कल की बैठक में केसीआर ने बताया कि पोलावरम के खिलाफ अदालत में दायर सभी मामलों को वापस लेने जा रहे। इसका मतलब यह निकलता है कि सरकार पोलावरम परियोजना को लेकर केसीआर तेलंगाना की जनता को गुमराह कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :

तेलंगाना में बेरोजगार युवाओं के लिए कैसे पर्याप्त होगा प्रस्तावित बजट: डॉ के लक्ष्मण

लक्ष्मण ने सवाल किया कि कृष्ण नदी जल विवाद का हल निकालने के लिए पिछले दिनों में केंद्र सरकार द्वारा दिए सलाह के बावजूद केसीआर ने क्यों ध्यान नहीं दिया? पिछले दिनों पोलावरम में जलमग्न में होने वाले सात मंडलों को आंध्र प्रदेश में विलय करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को केसीआर ने फासिस्ट कह कर आलोचना की थी। भद्रचलम के जलमग्न होने की बात कहकर तेलंगाना की जनता को उकसाया था। अब पोलावरम के विषय में केसीआर ने बयान बदल दिए हैं। इस बात को देखते हुए केसीआर को चाहिए कि प्रधानमंत्री और तेलंगाना की जनता से माफी मांगनी चाहिए।