हैदराबाद : भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की तेलंगाना में पार्टी को मजबूत बनाने की कोशिश शुरू हो चुकी है। राज्य से जुड़े विभिन्न पार्टियों के वरिष्ठ और महत्वपूर्ण नेताओं को भाजपा में शामिल करने के प्रयास तेज हो गए हैं। भाजपा आलाकमान ने राज्य में पार्टी को मजबूत करने की जिम्मेदारी आरएसएस के पूर्व नेता व भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव को सौंपी है।

इसी के तहत राम माधव हैदराबद पहुंच कर यहां के होटल पार्क हयात में डेरा डाले हुए हैं। बुधवार दोपहर वे तेलंगाना के कुछ नेताओं से मिले। राम माधव से मुलाकात करने वालों में मुनुगोड़ु से विधायक कोमटीरेड्डी राजगोपाल रेड्डी और उनके भाई मोहन रेड्डी, पेद्दपल्ली के पूर्व सांसद विवेक, टीपीसीसी के पूर्व प्रवक्ता रेगुलपाटी रम्याराव होने की खबर है। इनके साथ चेवेल्ला से पूर्व सांसद कोंडा विश्वेश्वर रेड्डी, आंध्र प्रदेश के टीडीपी के कुछ महत्वपूर्ण नेताओं के राम माधव के संपर्क में होने की खबर भी है।

2023 को लक्ष्य बनाकर...

केंद्र में दूसरी बार सत्ता में लौटने के बाद दक्षिणी राज्यों में अपनी स्थिति मजबूत करने के इरादे से भारतीय जनता पार्टी पहल कर रही है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने तेलंगाना में चार लोकसभा सीटों पर जीत का परचम लहरा चुकी पार्टी का और विस्तार करने का निर्णय लिया है। अमित शाह ने तेलंगाना भाजपा नेतृत्व को सतर्क करने के साथ-साथ विभिन्न राजनीतिक दलों में असंतोष चल रहे नेताओं को पार्टी में लाने की जिम्मेदारी राम माधव को सौंपी है।

इसी के तहत राम माधव कुछ नेताओं को आकर्षित करने की रणनीति के साथ बुधवार हैदराबाद पहुंचे। तेलंगाना भाजपा नेतृत्व ने राम माधव की विभिन्न पार्टियों के कुछ नेताओं से मुलाकात की व्यवस्था की है। बुधवार दोपहर बाद राम माधव कुछ पार्टियों के नेताओं से मिले, जिनमें कांग्रेस, टीआरएस, टीडीपी और टीजेएस के नेता होने की खबर है।

2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से अधिक सीटें जीतने के मद्देनजर भाजपा 2023 तक राज्य में लोकसभा में आधे से अधिक सीटें जीतने की रणनीति के तहत राम माधव कदम आगे बढ़ा रहे हैं। बुधवार को कुछ नेताओं से मिले राम माधव गुरुवार को भी हैदराबाद में रहेंगे और कुछ अन्य नेताओं से मिलेंगे।

इसे भी पढ़ें :

राम माधव ने कहा- 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए BJP कस रही है कमर, 315 सीटें जीतने का लक्ष्य

राम माधव से मिलने वाले सभी नेताओं के भाजपा में शामिल होने की खबर है। जल्द ही भाजपा में कुछ नेताओं के शामिल होने का कार्यक्रम बड़े पैमाने पर आजोयित करने की तैयारी की जा रही है। कुल मिलाकर ऑपरेशन आकर्ष के तहत एक-दो कांग्रेस सांसद भी राम माधव के टच में होने की खबर है, लेकिन उक्त सांसदों व टीपीसीसी ने इन खबरों का खंडन किया है।

राम माधव के नेतृत्व में कौन-कौन भाजपा में शामिल होंगे, इसका खुलासा अगले दो दिन में होगा। राम माधव की रणनीति सफल होने पर 2020 तक भाजपा को मजबूत ताकत बनाकर 2023 के चुनाव में टीआरएस का सामना करने की बात कही जा रही है।