हैदराबाद : मंगलवार को मुख्यमंत्री केसीआर नवनिर्वाचित जिला परिषद चेयरपर्सन व वाइस चेयर पर्सन से प्रगति भवन में मिले। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पंचायतीराज व्यवस्था को मजबूत बनाना ही हम सबका ध्येय होना चाहिए।

साथ ही मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि स्वतंत्रता के 70 साल बाद भी गांवों में हर कहीं गंदगी फैली है और हमें मिलकर हमारे गांवों को स्वच्छ और सुंदर बनाना चाहिए क्योंकि असली तेलंगाना गांवों में ही बसता है। गांवों को स्वच्छ बनाने से ही हमारा राज्य सुंदर बनेगा।

उन्होंने सभी जिला परिषद के चेयरपर्सन आदि से कहा कि आप सब पढ़े-लिखे हैं और यह सारी बातें समझते हैं तो अब यह आपकी जिम्मेदारी है कि आप ये बातें सबको समझाएं। साथ ही आप सबको यह प्रतिज्ञा कर लेनी चाहिए कि आप अपने क्षेत्र को सबसे सुंदर व स्वच्छ बनाएंगे। आप सबके ऐसा करने से सारे राज्य सुंदर हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि, "मैंने स्वयं पंचायतीराज के विषय में अधिक जानने के लिए कई प्रयत्न किये। जब मैं विधायक था तब एनआईआरडी में ट्रेनिंग के लिए गया। वहीं हॉस्टल में छ दिन तक रहा और सब कुछ नजदीक से देखा तब मुझे कई बातों के बारे में पता चला तो आपको भी इस तरह की कोशिश करनी चाहिए।"

इसे भी पढ़ें :

तेलंगाना में पंचायतीराज कानून को सख्ती से लागू करने पर जोर, संशोधन करने की भी कवायद

सभा के शुरू होने से पहले ही मुख्यमंत्री ने प्रत्येक जिला परिषद चेयरपर्सन से मिले उनसे बात की और उनके साथ भोजन भी किया। इस आयोजन में मुख्यमंत्री के साथ कई मंत्री भी थे जिनमें महमूद अली, अल्लोल इंद्रकिरण रेड्डी, कोप्पुल ईश्वर, सिंगिरेड्डी निरंजनरेड्डी, वेमुल प्रशांतरेड्डी, मल्लारेड्डी, श्रीनिवास गौड आदि शामिल थे।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर ये घोषणा की कि जो गांव सबसे सुंदर व स्वच्छ होगा व सभी क्षेत्रों में जो बेहतर होगा उसे सरकार की ओर से 10 करोड रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। अब देखना यह है कि कौन सा ग्राम इसे पाने के लिए प्रयत्न करता है।

वैसे हम तो यही चाहते हैं कि सारे गांव इसे प्राप्त करना चाहे और इस चाह में सब स्वच्छ और सुंदर बन जाए।" साथ ही मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि जैसे हमने तेलंगाना पाने के लिए एक उद्यम चलाया था ठीक उसी तरह इसे सुंदर और स्वच्छ बनाने के लिए भी करना होगा।"