हैदराबाद : लोकसभा चुनाव 2019 अब अंतिम चरण में पहुंच गया है। समय के साथ बनते-बिगड़ते राजनीतिक समीकरण को देखते हुए तेलंगाना के मुख्यमंत्री गैर एनडीए और गैर यूपीए के नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। इसी क्रम में के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) डीएमके अध्यक्ष स्टालिन से आज मुलाकात करेंगे। हालांकि डीएमके यूपीए को अब तक समर्थन करती रही है।

खबरें हैं कि केसीआर तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर काफी गंभीर हैं। उन्होंने कई बार इस बात को सार्वजनिक मंच पर स्वीकार किया कि केंद्र में तीसरे मोर्चे की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। वह काफी दिनों से कोशिश कर रहे हैं कि गैर एनडीए और गैर यूपीए मोर्चा खड़ा किया जा सके, जो सरकार बनने में निर्णायक भूमिका निभाए।

केसीआर और स्टालिन की मुलाकात की खबर पहली बार सामने नहीं आई है। हालांकि किसी न किसी वजह से मुलाकात टल जाती थी। इस बार भी पहले यह बैठक रविवार को होनी थी, जिसे टाल दिया गया था। अब यह मुलाकात सोमवार शाम चार बजे होगी। डीएमके इसे शिष्टाचार मुलाकात बताकर कोई भी जवाब देने से बच रही है।

यह भी पढ़ें :

चुनाव बाद भाजपा-कांग्रेस को केसीआर देंगे टक्कर, यह है तैयारी

केसीआर को भरोसा, केंद्र में क्षेत्रीय दलों के गठबंधन से बनेगी सरकार

पिछले हफ्ते केसीआर ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से मुलाकात की थी। दोनों नेताओं ने करीब दो घंटे तक बंद कमरे में बैठक की थी। उस वक्त केरल की सीएम विजयन ने कहा था कि हो सकता है दोनों ही गठबंधन को बहुमत नहीं मिले। ऐसे में क्षेत्रीय दल अहम भूमिका निभाएंगे।