हैदराबाद : तेलंगाना की सत्तारूढ़ पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने स्थानिय निकायों के एमएलसी उम्मीदवार तय करने पर ध्यान केंद्रित किया है। वर्तमान एमएलसी के इस्तीफे के कारण वरंगल नलगोंडा और रंगारेड्डी संयुक्त जिलों के स्थानीय निकाय कोटा में एमएलसी के स्थान रिक्त हुए हैं। इन तीन स्थानों के लिए उपचुनाव की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 14 मई है।

टीआरएस पार्टी ने इन तीनों सीटों पर निर्विरोध चुनाव जीतने के लिए जरूरी रणनीति बना ली है, हालांकि संयुक्त रंगारेड्डी जिले के समीकरण के आधार पर उम्मीदवारों के चयन का मन बनाया है। इन तीन स्थानीय निकाय एमएलसी सीटों के साथ-साथ चार अन्य एमएलसी सीटों के लिए जल्द ही चुनाव होने हैं।

चुनाव होने वाले कुल तीन सीटों में से दो पर टीआरएस का पहले से कब्जा है। 2015 के चुनाव में वरंगल और रंगारेड्डी संयुक्त जिले की एमएलसी सीटों पर टीआरएस और नलगोंडा सीट पर कांग्रेस को जीत मिली थी। परंतु अब टीआरएस इन तीनों स्थानों पर जीतना चाहती है। इसके लिए टीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटीआर एमएलसी चुनाव की रणनीति बना रहे हैं और टीआरएस प्रमुख केसीआर के निर्णय के बाद उम्मीदवारों के नाम घोषित करेंगे।

दूसरे राज्यों के दौरे पर गए सीएम केसीआर अगले तीन-चार दिन में हैदराबाद लौटने वाले हैं और उनके वापस पहुंचने के बाद ही उम्मीदवारों के नाम घोषित करने की संभावना है।

वरंगल संयुक्त जिले के स्थानीय एमएलसी के रूप में कोंडा मुरली के कांग्रेस में शामिल होने के बाद अपने पद से इस्तीफा देने के कारण यहां चुनाव अनिवार्य हो गया था। इस सीट के लिए टीआरएस के प्रदेश महासचिव तक्कल्लपल्ली रविंदर राव और प्रदेश सचिव श्रीनिवास रेड्डी के नामों पर विचार किया जा रहा है।

संयुक्त रंगारेड्डी जिले के स्थानीय निकाय के एमएलसी पटनम नरेंदर रेड्डी के विधानसभा के लिए चुने जाने के मद्देनजर उनके इस पद से इस्तीफा दे देने से यह स्थान रिक्त हुआ है। इस सीट पर पटनम महेंदर रेड्डी और पटोल्ला कार्तिक रेड्डी के नाम पर पार्टी विचार कर रही है।

संयुक्त नलगोंडा जिले के स्थानीय निकाय एमएलसी कोमटीरेड्डी राजगोपाल रेड्डी विधानसभा चुनाव में जीतने के कारण उनके एमएलसी पद से इस्तीफा दे देने से यहां चुनाव हो रहे हैं।

टीआरएस पहले की एलान कर चुकी है कि नलगोंडा के वर्तमान सांसद गुत्ता सुखेंदर रेड्डी को एमएलसी का मौका दिया जाएगा। परंतु यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि उन्हें एमएलए कोटा में या स्थानीय निकाय कोटा में मौका मिलेगा। गत चुनाव में राजगोपाल रेड्डी के खिलाफ चुनाव लड़कर हारने वाले टीआरएस उम्मीदवार चिन्नपरेड्डी और पूर्व विधायक वेनेपल्ली चंदर राव के नाम पर भी पार्टी आलाकमान विचार कर रही है।

जल्द होंगे और चार सीटों के लिए चुनाव...

राज्य विधान परिषद में कुल 40 सीटें हैं। वर्तमान में 7 सीटें रिक्त हैं, इनमें 3 सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं, जबकि 4 अन्य सीटों की भर्ती जल्द ही होगी। टीआरएस नेता मैनमपल्ली हनुमंत राव विधायक चुने जाने के बाद उन्होंने विधानसभा से इस्तीफा दिया है। जल्द ही इस सीट के लिए चुनाव होने हैं। अयोग्य करार दिए गए यादव रेड्डी, रामलु नायक, भूपतिरेड्डी की विधान परिषद की सदस्यता रद्द हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें :

काविद का टीआरएस में विलय की तैयारी!

अयोग्यता की गाज के खिलाफ ये तीनों नेता अदालत का दरवाजा खटखटा चुके हैं और अदालत का फैसला आने के बाद इन सीटों के लिए चुनाव होने की संभावना है। टीआरएस जल्द ही इन सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर सकती है। टीआरएस ने पिछले दिनों जब अपने लोकसभा उम्मीदवारों के नाम घोषित किए थे, उसी वक्त कहा था कि गुत्ता सुखेंदर रेड्डी, टीआरएस नेता के. नवीन कुमार को एमएलसी पद के लिए मौका देगी।