अमरावती / हैदराबाद : आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में मंगलवार शाम 6 बजे चुनाव प्रचार थम गया है। आंध्र और तेलंगाना के मुख्य चुनाव अधिकारियों गोपालकृष्ण द्विवेदी और रजत कुमार ने अलग-अलग संवादादात सम्मेलन आयोजित की और चुनाव प्रचार की समाप्ति के बाद बरती जाने वाली हिदायतों से अवगत कराया।

अमरावती में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि मंगलवार शाम 6 बजे चुनाव प्रचार समाप्त हो चुका है। उन्होंने बताया निर्वाचन क्षेत्र से संबंध नहीं रहने वाले नेताओं को उस निर्वाचन क्षेत्र में नहीं रहने और बाहरी नेताओं को अपने-अपने क्षेत्र चले जाने का निर्देश दिया।

राज्यभर में तलाशी अभियान तेज करने और नकदी, शराब और गिफ्ट्स की बरामदगी में आंध्र प्रदेश दूसरे नंबर पर होने का हवाला देते हुए उन्होंने दोनों मुख्य राजनीतिक दलों से अगले दो दिन तक जरूरी सहयोग देने की अपील की। हालांकि उन्होंने प्रलोभन पर उतरने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी भी दी। मतदान केंद्रों में इलेक्ट्रानिक उपकरण प्रतिबंधित होने की जानकारी देते हुए उन्होंने वोटरों से मतदान केंद्र के लिए सेलफोन नहीं ले जाने का अनुरोध किया।

इसे भी पढ़ें :

बाबू की भ्रष्ट सरकार से मुक्ति के लिए जगन को मुख्यमंत्री बनाना जरूरी : वाईएस शर्मिला

वोट के लिए रुपये लेने वाले भी सजा योग्य बताते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें मिल रही शिकायतों के खिलाफ समय-समय पर कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने बताया कि सी विजिल ऐप के जरिए 5679 शिकायतें मिली हैं और उनमें से सही शिकायतों की जांच करवाई गई है।

द्विवेदी ने बताया कि बुधवार शाम तक EVM, VVPAT के साथ कर्मचारी मतदान केंद्रों पर पहुंच जाएंगे और गुरुवार सुबह 7 बजे से मतदान शुरू होगा।

विकलांगों व नेत्रहीनों की वोटिंग के लिए विशेष व्यवस्था किए जाने की जानकारी दी और बताया कि राज्यभर में 81,000 विकलांग वोटर हैं। उन्होंने कहा कि इस बार मै वोट क्यू ऐप शुरू की गई और इस ऐप के जरिए मतदान केंद्र पर कतारें हैं या नहीं, इसका पता लगाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि अब तक लगभग 21 हजार लोग इस ऐप को डाउन लोड कर चुके हैं और मतदान की तारीख तक करीब एक लाख लोगों के इसे डाउन लोड करने की संभावना है। उन्होंने बताया कि वोटर कार्ड नहीं रहने वाले 11 तरह के कार्ड दिखाकर अपना वोट डाल सकते हैं और दूसरी बार वोट डालते हुए पकड़े जाने पर उन्हें कम से काम तीन साल की जेल होगी।

इसे भी पढ़ें :

जगन का बाबू से सवाल, “भाड़े के नेताओं ने स्पेशल स्टेटस पर क्यों नहीं दिया समर्थन?”

तेलंगाना के मुख्य चुनाव अधिकारी रजत कुमार ने बताया कि इस बार लोकसभा चुनाव में 2 करोड़ 97 लाख 8599 वोटर अपना मताधिकार का प्रयोग करेंगे और इसके लिए राज्यभर में 34 हजार 604 मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

उन्होंने बताया कि तेलंगाना में मतदान 11 अप्रैल को सुबह 7 बजे शुरू होकर शाम 5 बजे खत्म होगा। माओवाद प्रभावित क्षेत्रों में मतदान सुबह 7 से शाम 4 बजे तक होगा, जबकि निजामाबाद में सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक चलेगा। राज्यभर में 4169 मतदान केंद्रों के लिए लाइव वेबकॉस्टिंग किया जा रहा है और सभी मतदान केंद्रों में वीडियो रिकार्डिंग होगी।