निजामाबाद : तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की बेटी एवं निजामाबाद से टीआरएस की मौजूदा सांसद के. कविता के खिलाफ 179 किसाना चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन वह घबरायी नहीं हैं और विश्वास के साथ कहती हैं, “मेरा अपने किसानों में पूरा विश्वास है।”

पहले चरण में 11 अप्रैल को होने वाले चुनाव के लिये विरोध स्वरूप खड़े हुए 179 किसानों ने आरोप लगाया कि सत्ताधारी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) किसानों को हल्दी और लाल ज्वार का न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाने और निजामाबाद में हल्दी बोर्ड का गठन कराने में विफल रही।

इस सीट पर कुल 185 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं, जिसकी वजह से निर्वाचन आयोग को विशाल ईवीएम का इंतजाम करना पड़ा है।

कविता ने कहा कि उनके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे और चुनाव लड़ रहे किसान भाजपा और कांग्रेस के समर्थक हैं। “उन्हें मैदान में रहने दीजिए।” उन्होंने कहा कि सामान्य रूप से किसान राज्य की रैतू बंधु जैसी कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित हो रहे हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या बड़ी संख्या में किसानों के चुनाव लड़ने से वह तनाव में हैं, कविता ने कहा, “नहीं, नतीजों तक इंतजार कीजिए। आपको पता चल जाएगा।”

यह भी पढ़ें :

कविता का किसानों को जवाब, चुनाव लड़ना ही है तो अमेठी और वाराणसी से भरें अपने पर्चे

निजामाबाद लोस सीट पर कविता के खिलाफ मैदान में 244 उम्मीदवार, किसानों का अनूठा विरोध

गौरतलब है कि 2018 के विधानसभा चुनाव में टीआरएस ने निजामाबाद लोकसभा क्षेत्र में पड़ने वाले नौ विधानसभा क्षेत्रों में से आठ पर जीत दर्ज की थी। हालांकि, मौजूदा सांसद ने कहा कि केंद्र की राजग सरकार निजामाबाद में (हल्दी) बोर्ड का गठन करने में नाकाम रही है।

दूसरी तरफ कविता के खिलाफ नामांकन दाखिल करने वाले 70 किसानों ने यह बात जाहिर की है कि वह कविता को हराने के मकसद से चुनाव मैदान में नहीं उतरे हैं, बल्कि हल्दी और सुर्ख ज्वार की सही कीमत न मिलने के कारण टीआरएस सरकार के खिलाफ मुकाबले का ऐलान किया है।