निजामाबाद तेलंगाना के कुल 17 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। 2014 के आम चुनाव में यहां से टीआरएस की कल्वाकुंट्ला कविता ने कांग्रेस पार्टी के मधु यास्की गौड़ को करीब 1,67,184 वोट से हराया था।

पहले से इस निर्वाचन क्षेत्र पर कांग्रेस का दबदबा रहा है। यहां से भाजपा और तेलुगु देशम पार्टी भी जीत दर्ज कर चुके हैं। परंतु पृथक तेलंगाना राज्य के गठने के बाद 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में टीआरएस की के. कविता ने डेढ़ लाख से अधिक बहुमत से अपने निकतम प्रतिद्वंद्वि मधु यास्की गौड़ को हराया था।

निजामाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में कुल 7 विधानसभा सीटें हैं, जिनमें निजामाबाद अर्बन, निजामाबाद रूरल, कोरुट्ला, बोधन, बालकोंडा, आर्मूर तथा जगित्याल शामिल हैं।

वर्ष 1952 में कांग्रेस के एच.सी. हेडा ने नेशनालिस्ट पार्टी के के.आर.मुकफालकर पर 12,243 मतों, वर्ष 1957 में कांग्रेस के एच.सी. हेडा ने निर्दलीय प्रत्याशी जी. राजाराम पर 37,529 मतों, 1962 में कांग्रेस के एच.सी. हेडा ने निर्दलीय प्रत्याशी एम. नारायण रेड्डी पर 27,020, वर्ष 1967 में निर्दलीय एम. नारायण रेड्डी ने कांग्रेस के एच. सी.हेडा को 20,245, वर्ष 1971 में कांग्रेस के एम. रामगोपाल रेड्डी ने टीपीएस पार्टी के के. अनंत रेड्डी पर 59,737 मतों, वर्ष 1977 में कांग्रेस के एम. गोपाल रेड्डी ने बीएलडी पार्टी के जी. गंगा रेड्डी पर 1,59,39,3 मतों, वर्ष 1980 में कांग्रेस के एम. गोपाल रेड्डी ने जनता पार्टी के प्रत्याशी एम.एम. खान पर 2,00,315 मतों, वर्ष 1984 में कांग्रेस के ताडुरी बाला गौड ने टीडीपी के एम. नारायण रेड्डी पर 2, 547 मतों, वर्ष 1989 में कांग्रेस के ताडुरी बाला गौड ने टीडीपी के पी. श्रीनिवास रेड्डी पर 24,099, वर्ष 1991 में टीडीपी के गड्डम गंगा रेड्डी ने कांग्रेस के ताडुरी बाला गौड पर 68,348 मतों, वर्ष 1996 में कांग्रेस के आत्माचरण रेड्डी ने टीडीपी के मांडवा वेंकटेश्वर राव पर 43,599 मतों, वर्ष 1998 में टीडीपी के गड्डम गंगारेड्डी ने भाजपा के आत्माचरण रेड्डी पर 32,756 मतों, वर्ष 1999 में टीडीपी के गड्डम गंगारेड्डी ने कांग्रेस के एस. संतोष रेड्डी पर 6,436 मतों, वर्ष 2004 में कांग्रेस के वाई. मधु गौड ने टीडीपी के सय्यद युसूफ अली पर 1,37,184 मतों, वर्ष 2009 में कांग्रेस के मधु याशिकी गौड ने तेरास के गणेश गुप्ता पर 60,390 मतों से जीत हासिल की।

निजामाबाद शहर तेलंगाना तीसरा सबसे बड़ा शहर है। इस शहर के इंदुर के नाम से भी जाना जाता है। जिले में SRSP (पोचमपाड) परियोजना प्रमुख है। इस परियोजना का निर्माण जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल में किया गया। उन्होंने इसके निर्माण कार्य का शिलान्यास किया था। इस परियोजना का निर्माण दक्षिण की गंगा कहे जाने वाली गोदावरी नदी पर किया गया।

निजामाबाद जिले में एसआरएसपी (पोचमपाड) परियोजना
निजामाबाद जिले में एसआरएसपी (पोचमपाड) परियोजना

निजामाबाद की सांसद कल्वाकुंटला कविता तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) की सदस्य हैं। तेलंगाना राज्य की स्थापना के बाद वह पहली महिला सांसद है। वह तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (KCR) की बेटी है।

सांसद कविता का जन्म करीमनगर में हुआ। उनके पिता तेलंगाना राज्य के प्रथम और द्वितीय मुख्यमंत्री हैं। कल्वाकुंटला कविता ने यूनिवर्सिटी ऑफ साउथर्न मिसीसिपी से स्नाकोत्तर की पढ़ाई पूरी की। वह अमेरिका से वर्ष 2004 में भारत लौटी।

उन्होंने ब्यूटी सलून चलाते हुए तेलंगाना संघर्ष में भाग लिया। तेलंगाना संघर्ष के लिए KCR द्वारा वर्ष 2006 में सांसद पद से इस्तीफा देने के बाद वह संघर्ष में सक्रियता से शामिल हुई।

तेलंगाना संघर्ष के दौरान समूचे राज्य का दौरा करते हुए कविता ने ग्राम-ग्राम में लोगों की समस्याओं की जानकारी ली और उसे सुलझाने का उन्हें आश्वासन देते हुये तेलंगाना आंदोलन के लिए प्रेरित किया। इस दौरान उन्होंने महसूस किया कि तेलंगाना के लोग कला और संस्कृति का संरक्षण रूचि के साथ करते हैं। यही उन्हें एकता की सूत्र में बांधता है। इसे ध्यान में रखते हुये सांसद कविता ने तेलंगाना जागृति संस्था वर्ष 2006, अगस्त में बनाई और लोगो को कला और संस्कृति के प्रति जागरूक किया तेलंगाना राज्य की स्थापना में तेलंगाना जागृति ने अहम भूमिका अदा की है।

आंदोलन को तेलंगाना जागृति के माध्यम से महिलाओं और युवाओं का बड़े पैमाने पर समर्थन मिला। अहिंसा मार्ग पर चलते हुए तेलंगाना राज्य की मांग सार्थक बनाई गई। कल्वाकुंटला कविता लेबर और ट्रेड यूनियनों के मानद अध्यक्ष पद पर क्षेत्र में सराहनीय कार्य किया।

इसे भी पढ़ें:

TRS की कल्वाकुंटला कविता को मिला श्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार

तेलंगाना कांग्रेस को झटका: तेरास में शामिल हुईं सबिता इंद्रा रेड्डी तो मंत्री बनना तय

सांसद कविता भारत स्काऊट एंड गाईड तेलंगाना की पहली महिला आयुक्त है। वह भारत स्काऊट एंड गाईड की देश में दूसरी महिला हैइस के अलावा वह इस्टीमेट कमेटी, स्टैंडिंग कमेटी, सलाहकार समिति, ग्रामीण विकास मंत्रालय, पंचायत राज और पेयजल व सैनिटेशन समितियों की सदस्य हैं।

हाल ही में कविता को कॉमनवेल्थ संसदीय संगठन ने स्टीअरिंग समिति के सदस्य के पद पर नामित किया है। विदेशों में भी वह डेलीगेशन में शामिल रही। आप को बता दें कि उन्होंने बीते लोकसभा के चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी मधु याशिकी गौड को हरा कर वह सांसद बनी है।

कविता ने 'बतुकम्मा' पर्व को दिया काफी महत्व

सांसद कविता ने तेलंगाना में 'बतुकम्मा' पर्व को काफी महत्व दिया है। तेलंगाना का यह प्रमुख त्यौहार माना जाता है। वर्ष 2016 में इसे हैदराबाद के एलबी स्टेडियम में बड़े पैमाने पर मनाया गया। इस त्यौहार की झलकियां काफी मनमोहक रही। इस त्यौहार के माध्यम से तेलंगाना की संस्कृति और परंपरा को प्रदर्शित किया गया।