इन योजनाओं की सफलता ने KCR को आसमान की बुलंदी पर पहुंचाया 

मुख्यमंत्री KCR - Sakshi Samachar

हैदराबाद : तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के लिए वर्ष 2018 राजनीतिक तौर पर कामयाब साबित हुआ। हाल में संपन्न हुए तेलंगाना विधानसभा चुनावों में टीआरएस को शानदार जीत हासिल हुई और वह राज्य में लगातार दूसरी बार सरकार बनाने में सफल रही। तय समय से पहले कराए गए विधानसभा चुनावों में बड़ी जीत हासिल करने के तुरंत बाद टीआरएस सुप्रीमो और राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने अपने बेटे के. टी. रामा राव (केटीआर) को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त कर दिया।

केसीआर ने राष्ट्रीय स्तर पर एक गैर-भाजपा और गैर-कांग्रेस मोर्चा गठित करने की अपनी पहल का भी ऐलान किया है। केसीआर सरकार की कल्याणकारी परियोजनाओं, किसान केंद्रित योजनाओं के दम पर विधानसभा चुनावों में टीआरएस को राज्य की 119 सीटों में से 88 पर जीत हासिल हुई। इस चुनाव में कांग्रेस की अगुवाई वाले ‘जन गठबंधन' और भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा। कांग्रेस को महज 19 सीटों से संतोष करना पड़ा।

इसे भी पढ़ें:

कांग्रेस और भाजपा के बिना ही बनेगा तीसरे विकल्प, जल्द ही इस पर काम शुरु करेंगे KCR

फेडरल फ्रंट को मजबूत करने के लिए KCR रवाना, यह है कार्यक्रम

तेलंगाना में जड़ें जमाने की लगातार कोशिश कर रही भाजपा को सिर्फ एक सीट मिल सकी। पिछले चुनाव में भाजपा के पांच विधायक थे। राज्य सरकार की ‘रैतु बंधु' फसल निवेश समर्थन योजना और ‘रैतु बीमा' जीवन बीमा योजना से टीआरएस को बहुत चुनावी फायदा हुआ।

दूसरी ओर, तेलंगाना में इस साल 12 सितंबर को जगित्याल जिले के कोंडागट्टू में एक बड़ा सड़क हादसा हुआ जिसमें 60 लोग मारे गए। आतंकवाद से जुड़े अहम मुकदमों में हिंदुत्ववादी कार्यकर्ता स्वामी असीमानंद को 11 साल पुराने मक्का मस्जिद धमाका मामले में एनआईए की विशेष अदालत ने बरी कर दिया। जबकि बम धमाके के एक अन्य मामले में दो आतंकवादियों को मौत की सजा सुनाई गई।

एल्गार परिषद के कार्यक्रम से जुड़े एक मामले में पुणे पुलिस ने बीते नवंबर में हैदराबाद से वाम रुझान वाले कवि एवं लेखक वरवर राव को गिरफ्तार किया। राव को चार अन्य कार्यकर्ताओं के साथ गिरफ्तार किया गया। उन पर माओवादियों से कथित संबंध रखने के आरोप हैं।

मार्च में तेलंगाना में छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले की सीमा से सटे एक जंगली इलाके में हुई मुठभेड़ में छह महिलाओं समेत 10 माओवादी मार गिराए गए। इस मुठभेड़ में एक सुरक्षाकर्मी शहीद हुआ था। मई 2007 में हुए मक्का मस्जिद धमाका मामले में एनआईए की विशेष अदालत ने 16 अप्रैल को असीमानंद और चार अन्य को बरी कर दिया। मक्का मस्जिद धमाका कांड में नौ लोग मारे गए थे और 58 जख्मी हो गए थे।

साल 2007 के दो बम विस्फोट मामले में हैदराबाद की एक मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अदालत ने 10 सितंबर को दो आतंकवादियों को मौत की सजा सुनाई। इन धमाकों में 44 लोग मारे गए थे जबकि 68 अन्य जख्मी हुए थे। अदालत ने राष्ट्रीय राजधानी और अन्य जगहों पर दोषियों को सुविधाएं मुहैया कराने के मामले में एक अन्य व्यक्ति को दोषी करार दिया और उसे उम्रकैद की सजा सुनाई।

बीते 29 अगस्त को तेलंगाना के नलगोंडा जिले में एक सड़क हादसे में पूर्व राज्यसभा सदस्य नंदमुरी हरिकृष्ण की मृत्यु हो गई। वह तेदेपा के संस्थापक एन. टी. रामा राव के पुत्र और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू के साले थे।

तेलंगाना में निवेश आकर्षित करने की टीआरएस सरकार की कोशिशें भी सफल होती नजर आई। फर्नीचर बनाने वाली दिग्गज स्वीडिश कंपनी आइकिया ने यहां अगस्त में अपना पहला आउटलेट खोलकर भारतीय बाजार में कदम रखा। आइकिया ने राज्य में 800 करोड़ रुपए का निवेश किया है। आईटी कंपनी क्वालकॉम ने अमेरिका के बाहर अपना सबसे बड़ा कैंपस हैदराबाद में स्थापित करने की योजना की घोषणा की। वह इस बाबत करीब 3,000 करोड़ रुपए का निवेश करेगी।

इसके अलावा स्मार्टफोन ब्रैंड ‘वनप्लस' एवं ‘ओप्पो' और सुपरबाइक बनाने वाली ‘बेनेली' ने भी तेलंगाना में निवेश की अपनी योजना की घोषणा की।

Advertisement
Back to Top