करीमनगर : तेलंगाना कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता गज्जेला कांतम ने कहा कि राहुल गांधी जहां देशभर में कांग्रेस को आगे ले जाने में जुटे हैं, लेकिन तेलंगाना के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एन. उत्तम कुमार रेड्डी ने पार्टी का सर्वनाश कर दिया है।

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में जीते-हार की नैतिक जिम्मेदारी लेने की बात कहने वाले उत्तम कुमार रेड्डी को तुरंत पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।

उन्होंने बताया कि पोन्नाला लक्ष्मय्या के अध्यक्ष रहते वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 21 सीटें मिली थीं, लेकिन 2018 के चुनाव में पार्टी को सिर्फ 19 सीटें मिली हैं। बीसी वर्ग के नेता प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने योग्य नहीं होने का हवाला देते हुए उस वक्त पोन्नाला से इस्तीफा दिलवाया गया, तो ऐसे में यह नियम उत्तम कुमार रेड्डी के लिए भी लागू होना चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तम कुमार रेड्डी के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद जीएचएमसी चुनाव में भी कांग्रेस पार्टी को केवल दो सीटें मिली थीं।

गज्जेला कांतम ने उत्तम कुमार रेड्डी पर तेज प्रहार करते हुए कहा कि तेलंगाना के लोगों ने राहुल गांधी पर विश्वास किया है, लेकिन उत्तम पर भरोसा करने की स्थिति में नहीं है। यही वजह है कि तेलंगाना में कांग्रेस का आज यह हाल हुआ है। एससी, एसटी और बीसी वर्ग के लोग आपके नेतृत्व को स्वीकार करने को तैयार नहीं है।

इसीलिए विधानसभा चुनाव में हराकर उन्होंने आपको सबक सिखाया है। उन्होंने उत्तम कुमार रेड्डी पर इससे पहले गृहनिर्माण मंत्री के रूप में काम करने के दौरान की गई धांधलियों के भंडाफोड़ को रोकने के लिए टीआरएस पार्टी के साथ अंदरूनी सांठगांठ करने और केसीआर के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया।

इसे भी पढ़ें :

तेलंगाना में कांग्रेस की करारी हार के ये रहे कारण, नेताओं ने मान ली अपनी गलती

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव से 6 महीने पहले कांग्रेस उम्मीदवारों का ऐलान करने के फैसले को ताक पर रखते हुए उत्तम कुमार ने माई होम के रामेश्वर राव से हाथ मिलाकर देर से पार्टी उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं।

गज्जेला कांतम ने कहा कि कोदंडराम केसीआर द्वारा सुझाया हुआ व्यक्ति, आंदोलनकारी और बुद्धिजीवी है। उत्तम कुमार को उनकी बुद्धि का उपयोग करना चाहिए, लेकिन उत्तम ने कोदंडराम की टीजेएस पार्टी को महाकूटमी में शामिल कर लिया। उन्होंने उत्तम पर महाकूटमी के गठन के मामले में भी राष्ट्र सत्रीय नेताओं को गुमराह करने का भी आरोप लगाया।