हैदराबाद : जन नाट्य मडल के संस्थापक, लोक गीतकार, गायक, और अभिनेता गुम्मडि विट्ठल उर्फ गदर (गद्दर) आने वाले चुनाव में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप चुनाव लड़ने की घोषणा की है। गदर ने कार्यवाहक मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के गज्वेल विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने की भी घोषणा की है।

गदर ने गुरुवार को मीडिया से आगे कहा, "मैं किसी पार्टी का उम्मीदवार नहीं हूं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और चेयरपर्सन सोनिया गांधी से मिलने के पीछ किसी प्रकार की राजनीति नहीं है। जब मैं उनके साथ मिला तो 45 मिनट तक केवल गीत ही गाया हूं।"

यह भी पढें:

तेलंगाना में क्रांतिकारी जन नायक के रूप में पूजे जाते हैं गुम्मडि विट्ठल उर्फ गदर, ऐसा है जीवन

सुरक्षा

गदर ने कहा कि वह राहुल गांधी से 'सेव कांस्टिट्युशन-सेव डेमोक्रसी' के बारे में बताया है। साथ ही 'सेव कांस्टिट्युशन-सेव डेमोक्रसी' किताब भी राहुल को भेंट की है। इसके अलावा दिल्ली में सीआईडी अतिरिक्त डीजी से मिलकर सुरक्षा प्रदान करने का भी आग्रह किया है। इस बारे में सीईओ को एक ज्ञापन भी सौंपा है।

यह भी पढें:

KCR को गद्दर और KTR को विमलक्का से लड़ाने की तैयारी में विरोध दल

लोक गायक गद्दर की जान को खतरा, गृहमंत्री से मिलकर की शिकायत

संघर्ष

गदर ने कहा कि हमेशा सामंतवाद और साम्राज्यवाद के बीच संघर्ष रहता है। एक वोट प्रदेश के राजनीतिक निर्माण का रूप होता है। इस बात को ध्यान में रखकर मतदाता अपना मताधिकार का प्रयोग करें। उन्होंने बताया कि आगामी 25 नवंबर से वह चुनाव प्रचार शुरू करेंगे।

यह भी पढें:

वर्ष 2019 तक तेलंगाना में वैचारिक क्रांति : गद्दर

तेलंगाना चुनाव : KCR को हराने के लिए गदर और KTR से टक्कर के लिए विमलक्का मैदान में

उन्होंने बताया कि चुनाव प्रचार के अंतर्गत पहले चरण में वह एसटी निर्वाचन क्षेत्र के परिधि में लोगों को जागरूक करने के लिए जाएंगे। दूसरे चरण में एससी निर्वाचन क्षेत्र के परिधि में जाएंगे। तीसरे चरण बीसी निर्वाचन के क्षेत्र परिधि में जाएंगे। चौथे चरण में गरीबों के पास जाएंगे।

यह भी पढें:

भट्टी की गदर से अपील, प्रजा सरकार स्थापित करने के लिए मांगा सहयोग

राहुल ने की गदर से मुलाकात, संविधान की गरिमा बनाये रखने के लिए सहयोग की अपील

मामले

गदर ने कहा कि देश में उनके खिलाफ कितने मामले है, इसका उन्हें ठीक से पता नहीं है। तेलंगाना के अलावा आंध्र प्रदेश में भी उनके खिलाफ अनेक मामले दर्ज है। उन्होंने बताया कि मगर शांति चर्चा और स्तूप अनावरण के दौरान दर्ज मामले हटा लिये गये है। हटा लिए गये मामले के बारे में डीजीपी महेंदर रेड्डी ने मुझे बताई है। लोक गायक ने बताया कि कोई चाहे कितने भी मामले दर्ज करे, वह डरने वाले नहीं है। उन्होंने सवाल किया कि यदि बोलने की आजादी नहीं है तो यह चुनाव और यह संविधान किसके लिए है?

वोट का अधिकार

जन नाट्य मंडली के संस्थापक ने कहा, "जो इंसान अपने विश्वास के सिद्धांत के लिए अपना लहू बहाता है वो ही अजरामर रहता है।" गदर बताया कि उसे पहली बार उन्हें वोट का अधिकार मिला है।