हैदराबाद : तेलंगाना मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार का कहना है कि आगामी विधानसभा चुनाव में लड़ने वाले ऐसे सभी उम्मीदवारों को अपने आपराधिक मामलों की घोषणा मीडिया में करनी होगी । रजत कुमार ने पत्रकार वार्ता के दौरान गुरुवार को सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि उम्मीदवारों को नामांकन पत्र के वापस लेने की तारीख से लेकर चुनाव प्रचार समाप्त होने की तारीख के बीच अपनी क्रिमिनल हिस्ट्री को विज्ञापन के रूप में टीवी चैनलों और अखबारों में जारी करना होगा।

रजत कुमार ने मामले की विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि हर उम्मीदवार को अपनी अापराधिक मामलों की जानकारी कम से कम 3 बार प्रकाशित और प्रसारित करने अनिवार्य है। इसके अलावा सभी राजनीतिक दलों को भी अपने सिंबल पर चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के अपराधिक रिकार्ड की जानकारी देनी होगी और उसे अखबारों और टीवी चैनलों पर प्रसारित प्रचारित करना होगा।

इसे भी पढ़ें :

चुनाव आयोग ने तेलंगाना सरकार से कहा- इन आरोपों पर जरुर करें कार्रवाई

रजत कुमार ने बताया कि क्रिमिनल हिस्ट्री का विज्ञापन प्रचारित प्रसारित होने के बाद इसकी जानकारी संबंधित जिले के चुनाव अधिकारी को भी अनिवार्य रूप से देनी होगी। ऐसे उम्मीदवार जिनका कोई अपराधिक रिकॉर्ड नहीं है, उनको इस तरह के विज्ञापन देने की कोई जरूरत नहीं होगी।

वेबसाइट पर भी रहेगी जानकारी

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने यह भी स्पष्ट किया है कि इन आपराधिक रिकॉर्ड को हर राजनीतिक दलों को अपनी वेबसाइट पर भी रखना अनिवार्य होगा । मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने कहा कि अगर किसी उम्मीदवार को मामले की सुनवाई जारी है या वह किसी मामले में जेल की सजा काट चुका है, तो इस बात का भी खुलासा इस विज्ञापन में अनिवार्य रूप से करना होगा।

रजत कुमार ने बताया कि राजनीतिक दल और उम्मीदवार इस विज्ञापन पर होने वाले खर्च को अपने चुनाव खर्च में शामिल कर सकते हैं।

ऐसे लोग सावधान

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने यह भी स्पष्ट किया कि अगर कोई व्यक्ति उम्मीदवार को बिना बताए उसके नाम से गलत विज्ञापन देता है या कोई और तरीके से प्रचार-प्रसार करता है तो संबंधित व्यक्ति के खिलाफ भी कार्यवाही की जाएगी।