हैदराबाद : कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और एकीकृत आंध्र प्रदेश में विधानसभा के अध्यक्ष रहे के. सुरेश रेड्डी ने आखिरकार तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) का दामन थाम ही लिया। पार्टी के मुख्यालय तेलंगाना भवन में आयोजित एक संक्षिप्त कार्यक्रम में सुरेश रेड्डी ने अपने कई समर्थकों के साथ तेलंगाना राष्ट्र समिति का दामन थामते हुए कहा कि तेलंगाना राष्ट्र समिति की सरकार ने राज्य के लिए कई विकास कार्य और कल्याणकारी योजनाएं शुरू की और उसका एजेंडा भी साफ है। इसीलिए वह कांग्रेस पार्टी को छोड़कर टीआरएस में शामिल हो रहे हैं।

इस अवसर पर पूर्व मंत्री नेरेल्ला आंजनेयुलू, पूर्व विधायक सत्यनारायण गौड़, बंडारी लक्ष्मा रेड्डी सहित तमाम कांग्रेस नेतागण टीआरएस में शामिल हुए।

इसे भी पढ़ें :

सुरेश रेड्डी शामिल हुए TRS में, KTR बोले-दिया जाएगा सम्मानित पद

इस अवसर पर कार्यकारी IT मंत्री के तारक रामाराव (केटीआर) ने कांग्रेस पार्टी की चुटकी लेते हुए कहा कि तेलंगाना के सारे विरोधी एक जगह जमा हो रहे हैं। अब तो दो दाढ़ी वाले भी एकजुट हो चुके हैं। जनता के सामने आर-पार की लड़ाई होगी।

केटीआर ने कहा कि एक समय था जब कांग्रेस को दफन करने का संकल्प लेकर पूर्व मुख्यमंत्री एनटी रामाराव ने तेलुगू देशम पार्टी की स्थापना की थी। पर आज तेलुगू देशम पार्टी के मुखिया चंद्रबाबू नायडू उसी कांग्रेस के सामने सरेंडर करते हुए उसकी गोद में जाकर बैठ गए हैं। जनता आने वाले समय में चंद्रबाबू और कांग्रेस को इस तरह की कोशिश पर करारा जवाब देगी।

इसे भी पढ़ें :

TRS सांसद को आग से जलाने का था प्लान, ऐसे बचे बाल्का सुमन

हालांकि, अपनी अस्वस्थता के कारण इस अवसर पर तेलंगाना के कार्यवाहक मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव शामिल नहीं हो पाए, लेकिन अपने आवास पर इन नेताओं का पार्टी में आने पर स्वागत किया और उनेक गले में पार्टी का अंगवस्त्र डाला।

इस अवसर पर उनके पुत्र और कार्यकारी IT मंत्री के तारक रामाराव, बेटी और निजामाबाद की सांसद की के. कविता के अलावा पार्टी के जनरल सेक्रेटरी डॉक्टर के. केशव राव समेत तमाम नेता मौजूद थे।