वाशिंगटन : नासा के नये ग्रह खोज अभियान की ओर से पहली वैज्ञानिक तस्वीर भेजी गई है जिसमें दक्षिणी आकाश में बड़ी संख्या में तारों और अन्य अंतरिक्षीय पिंडों को कैद किया गया है।

ट्रांजिटिंग एक्सप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट (टेस) ने अपनी प्रारंभिक वैज्ञानिक कक्षा से तस्वीर भेजी। सात अगस्त को 30 मिनट की अवधि में अंतरिक्षयान के चारों कैमरों का इस्तेमाल करते हुए इस छवि को कैद किया गया।

वाशिंगटन में नासा मुख्यालय के खगोल भौतिकी विभाग के निदेशक पॉल हर्ट्ज ने कहा, ‘‘पहली प्रकाशीय वैज्ञानिक छवि टेस कैमरों की क्षमताओं को दर्शाती है और यह भी बताती है कि यह मिशन एक और पृथ्वी की खोज में अपनी अतुलनीय क्षमता को समझेगा।''

अमेरिका में मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में टेस के प्रमुख जांचकर्ता जॉर्ज रिकर ने कहा, ‘‘आकाश के दक्षिणी गोलार्द्ध की इस पट्टी में एक दर्जन से अधिक तारे ऐसे हैं जिनके बारे में हम पृथ्वी पर वेधशालाओं से किये गये पिछले अध्ययनों के आधार पर जानते हैं कि उनमें ट्रांजिट करते हुए ग्रह मौजूद हैं।''

यह भी पढ़ें: ‘नासा’ का सोलर प्रोब ‘पार्कर’ सफलतापूर्वक लांच, अब सूरज को लपकने की कोशिश