नई दिल्ली। टीम इंडिया के वर्ल्डकप से बाहर हो जाने के बाद से ही लगातार महेंद्र सिंह धोनी के रिटायरमेंट की खबरें सामने आ रही है। यही नहीं खेल को छोड़ने के बाद राजनीति भी ज्वाइन करने की अटकलें लगाई जा रही है। खबरें आ रही है कि वे बीजेपी ज्वाइन करने वाले हैं। लेकिन इन सब के बीच जो सबसे अहम बात है वो यह है कि क्या वाकई धोनी संन्यास ले लेंगे। दरअसल उनके रिटायरमेंट के पूरे संकेत मिलने भी शुरू हो गए हैं, क्योंकि ऋषभ पंत विकेटकीपर बल्लेबाज की जिम्मेदारी संभालने के लिए तैयार हैं।

वर्ल्ड कप 2019 में धीमी पारी, कम रन औसत, स्लो स्ट्राइकरेट और कम रन बनाने की वजह से एमएस धौनी की काफी आलोचना हुई। उनके इस संन्यास को लेकर ना केवल धोनी बल्कि कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने भी कुछ बोलने की जहमत उठाई।

चर्चा थी कि एमएस धोनी वर्ल्ड कप खेलकर इंग्लैंड से लौटने के बाद रांची में अपने संन्यास का ऐलान कर सकते हैं। लेकिन, अभी तक ऐसा नहीं हुआ है। उधर, खबरों की मानें तो एमएस धौनी का करियर अब खत्म होने की कगार पर है। क्योंकि टीम इंडिया को ऋषभ पंत के तौर पर उनका विकल्प मिल गया है।

ऐसे में बीसीसीआई के मुख्य सेलेक्टर्स एमएसके प्रसाद जल्द ही धोनी से बात करेंगे कि अगर वे संन्यास नहीं लेते हैं तो ऑटोमेटिक उन्हें टीम में शामिल नहीं किया जाएगा।

चीफ सलेक्टर एमएसके प्रसाद ने इशारों ही इशारों में इस बात के संकेत दे दिए हैं कि अब एमएस धोनी फ्यूचर में टीम सिलेक्शन की प्लानिंग में शामिल नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें

भाजपा के साथ नई पारी की शुरुआत करने की तैयारी में धोनी, मिलने लगे संकेत

रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से लिखा है, "हमें (बोर्ड अधिकारी) इस बात से हैरानी हैं धौनी ने अब तक ऐसा नहीं किया है। ऋषभ पंत जैसे युवा खिलाड़ी उनकी जगह लेने का इंतजार कर रहे हैं। जैसा कि हमने विश्व कप में देखा धौनी अब आक्रामक बैटिंग नहीं कर पा रहे हैं। नंबर 6 या 7 पर उतरने के बावजूद वह रन को बढ़ाने के लिए लगातार संघर्ष कर रहे हैं। जिससे टीम को काफी मुश्किलों बढ़ती चली जा रही है।"