नई दिल्ली। बुधवार को मैनचेस्टर में न्यूजीलैंड द्वारा टीम इंडिया को दी शिकस्त के बाद देश में करोड़ों फैन्स के दिल में मायूसी छाई हुई है। इस हार के साथ भारत का वर्ल्ड कप को लेकर सारी उम्मीदें धराशाई हो गई। न्यूजीलैंड के 240 रनों के लक्ष्य का पीछा करने के लिए जब भारतीय खिलाड़ी मैदान में उतरे तो 5 ओवरों में ही विकेटों की झड़ी लग गई।

भारतीय कप्तान विराट कोहली के चेहरे पर तनाव साफ नजर आ रहा था। आउट होने के बाद वह ड्रेसिंग रूम में इधर-उधर बेचैनी से टहल रहे थे। जब ऋषभ पंत का विकेट गिरा तो वह कोच रवि शास्त्री की तरफ मुड़े और गुस्से में कुछ कहते नजर आए। सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो गया है।

एक के बाद एक गिरते विकेट के बीच रवि शास्त्री और कप्तान कोहली के बीच सलाह मशविरा हुई कि अब किसे उतारा जाए। हर कोई धोनी के क्रीज पर आने की उम्मीद कर रहा था, लेकिन उनसे पहले दिनेश कार्तिक और ऋषभ पंत को मौका दे दिया गया। पंत 32 रन बनाकर आउट हो गए। आखिरकार धोनी को नंबर 7 पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया। धोनी और जडेजा ने मिलकर संघर्ष किया लेकिन वे भारत को जीत नहीं दिला सके।

यहां तक कि सचिन तेंदुलकर ने भी कहा कि अगर धोनी को हार्दिक पंड्या से पहले नंबर 5 पर भेजा जाता तो शायद नतीजा कुछ और होता। तेंदुलकर ने धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि रवींद्र जडेजा के साथ मिलकर धोनी ने बहुत खूबसूरती से पारी को संभाला।

इसे भी पढ़ें क्रिकेट के पूर्व दिग्गजों ने विराट कोहली के इस फैसले को बताया रणनीतिक चूक

सोशल मीडिया पर किया जा रहा है यह दावा

पंत के आउट होते ही बाल्कनी में खड़े कोहली सीधे शास्त्री के पास पहुंचे और उनसे कुछ बातचीत की। चैनल के कैमरों में गुस्से में दिख रहे भारतीय कप्तान और कोच के बीच चर्चा का यह पल कैद हो गया। कोहली शास्त्री से छोटी सी बातचीत के बाद ड्रेसिंग रूम चले जाते हैं। सोशल मीडिया पर लोग दावा कर रहे हैं कि पंत के आउट होने को लेकर कोहली शास्त्री के सामने रिएक्ट कर रहे थे।

हालांकि मैच के बाद प्रेस कान्फ्रेस में कोहली से इस बाबत सवाल पूछा गया तो उन्होंने रवि शास्त्री के साथ बहस होने के दावे को खारिज कर दिया। उनसे जब पूछा गया कि वह ड्रेसिंग रूम में शास्त्री के साथ क्या बात कर रहे थे तो भारतीय कप्तान ने जवाब दिया, 'मैंने पूछ रहा था कि इस स्थिति से आगे जाने की क्या रणनीति है।'

कप्तान कोहली ने किया पंत का बचाव

पंत का समर्थन मे आए कप्तान ने कहा, ‘वह नैचुरल खिलाड़ी हैं और उन्होंने मुश्किल स्थिति से बाहर आने के लिए अच्छा खेला और पंड्या के साथ साझेदारी की। वह अभी युवा हैं, मैं भी जब युवा था तब मैंने भी काफी गलतियां कीं, मेरी तरह वह भी सीखेंगे।