तोक्यो: तोक्यो 2020 ओलंपिक के सभी पदक इलेक्ट्रानिक कचरे के पुन:चक्रण प्रक्रिया से मिली धातु से बनाये जायेंगे। खेल के आयोजकों ने यह घोषणा की। तोक्यो ओलंपिक की आयोजन समिति ने 2017 में लोगों से पुराने स्मार्टफोन और लैपटाप सहित अन्य इलेक्ट्रानिक कचरे को एकत्रित करने की योजना लांच की थी जिसका उद्देश्य पदकों के लिये धातु इकट्ठा करना था।

जापानी व्यवसाय और उद्योग से इस कचरे के रिसाइकिलिंग के बाद मिली धातु एकत्रित की जा चुकी है। आयोजकों ने कहा कि जितनी मात्रा में धातु मिली है, उससे उसका लक्ष्य पूरा हो जायेगा और यह प्रक्रिया मार्च के अंत में समाप्त हो जायेगी। पिछले साल नवंबर में नगर निगम अधिकारियों ने 47,488 टन बेकार उपकरण एकत्रित किये थे जिसमें से लोगों ने स्थानीय नेटवर्क को 50 लाख इस्तेमाल किये जाने फोन दिये थे।

इसे भी पढ़ें:

प्योंगचांग ओलंपिक के दूसरे दिन गूगल के डूडल में दौड़ा कछुआ

ओलंपिक पदक बनाने के लिये पहले भी इलेक्ट्रानिक कचरे की पुन:चक्रण से मिली धातु इस्तेमाल की जा चुकी है जिसमें रियो ओलंपिक भी शामिल था जिसमें 30 प्रतिशत चांदी और कांसा ऐसे ही प्राप्त किया गया था।