इपोह : भारत ने रविवार को सुल्तान अजलन शाह कप हॉकी टूर्नामेंट के अपने दूसरे मैच में गोल करने के कई मौके गंवा दिये जिससे उसे इंग्लैंड के खिलाफ 1-1 ड्रा से संतोष करना पड़ा। भारत को शनिवार को टूर्नामेंट के पहले मुकाबले में ओलंपिक चैम्पियन अर्जेंटीना से 2-3 से हार मिली थी, जिससे उसने आज प्रतियोगिता का पहला अंक जुटाया।

युवा शिलानंद लारका (14वें मिनट) ने पहले क्वार्टर के अंतिम क्षणों में पहला अंतरराष्ट्रीय गोल दागा, जिससे भारत ने बढ़त बना ली जो 53वें मिनट तक बरकरार भी रही। लेकिन मार्क ग्लेगहोर्ने ने पेनल्टी स्ट्रोक को गोल में तब्दील कर बराबरी हासिल की। इस ड्रा से पिछले साल की कांस्य पदकधारी भारतीय टीम छह टीमों के टूर्नामेंट में चौथे स्थान पर है।

भारत ने सरदार सिंह की अगुवाई में युवा और कम अनुभवी खिलाड़ियों की टीम उतारी है। लेकिन इस ड्रा के लिये उन्हें खुद को ही दोष देना होगा क्योंकि उन्होंने कम से कम नौ पेनल्टी कार्नर के अलावा मैदान पर कई गोल करने के मौके गंवा दिये।

भारतीय टीम की शुरूआत काफी धीमी रही जिससे इंग्लैंड ने प्रतिद्वंद्वी टीम पर लगातार हमले बोलते हुए दबाव बना दिया। हालांकि पहले क्वार्टर के खत्म होने से तुरंत पहले शिलानंद ने रिबाउंड पर गोल कर उसे आगे कर दिया, इससे पहले तलविंदर सिंह के शाट को इंग्लैंड के गोलकीपर हैरी गिब्सन ने रोक दिया था। दूसरे क्वार्टर में हालांकि भारत का दबदबा रहा जिसने लगातार आठ पेनल्टी कार्नर हासिल किये लेकिन ड्रैग फ्लिकर वरूण कुमार और अमित रोहिदास की जोड़ी इंग्लैंड की रक्षात्मक पंक्ति को तोड़ने में असफल रहे।

तीसरे क्वार्टर में दोनों टीमों के बीच मिडफील्ड में द्वंद्व देखने को मिला क्योंकि इंग्लैंड के खिलाड़ी बराबरी के लिये के लिये बेताब थे और इसी प्रक्रिया में उन्होंने एक पेनल्टी कार्नर हासिल किया जो बेकार हो गया। भारतीय खिलाड़ियों ने 48वें मिनट में नौंवा और अंतिम पेनल्टी कार्नर प्राप्त किया लेकिन वे इस मौके का फायदा नहीं उठा सके और सोर्ड मारिन की टीम के लिये यह महंगा साबित हुआ।

अंतिम हूटर से सात मिनट पहले इंग्लैंड को भारतीय सर्कल के अंदर स्टिक के उल्लघंन के लिये पेनल्टी स्ट्रोक मिला और ग्लेगहोर्ने ने आसानी से गोलकीपर कृष्ण बी पाठक को पछाड़कर इसे गोल में तब्दील कर दिया। दोनों टीमों ने विजयी गोल हासिल करने की पूरी कोशिश की लेकिन उनके प्रयास सफल नहीं हुए। कल विश्राम के बाद भारतीय टीम मंगलवार को दुनिया की नंबर एक टीम आस्ट्रेलिया से भिड़ेगी जबकि इंग्लैंड का सामना आयरलैंड से होगा।