पुणे : न्यूजीलैंड के खिलाफ मुंबई में खेले गए पहले वनडे मैच में मिली हार के बाद भारतीय टीम पर सीरीज में हार का खतरा मंडरा रहा है। दूसरा मैच आज पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेला जाएगा।

अगर किवी टीम यह मैच जीत लेती है तो तीन वनडे मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त ले लेगी और भारत को वर्षो बाद घर में सीरीज हार का सामना करना पड़ेगा।

लेकिन, गिरकर मजबूत वापसी के लिए मशहूर आक्रामक कप्तान विराट कोहली की भारतीय टीम हर हाल में दूसरा मैच जीतकर सीरीज में प्रतिद्वंद्विता को जिंदा रखना चाहेगी। भारतीय टीम यह मैच जीत लेती है तो कानपुर में खेला जाने वाले तीसरा मैच निर्णायक हो जाएगा।

टॉम लाथम के शतक और रॉस टेलर के अर्धशतक के अलावा गेंदबाजों के दम पर किवी टीम ने मेजबानों को वानखेड़े स्टेडियम में छह विकेट से मात दी थी। किवी टीम एक बार फिर उसी प्रदर्शन को दोहराना चाहेगी। वह जानती है कि उसके पास भारत जैसी मजबूत टीम को उसके घर में मात देने का बेहतरीन मौका है जिसे भुनाकर वह इतिहास रच सकती है।

पहले मैच में कोहली को छोड़कर भारतीय बल्लेबाज किवी गेंदबाजों के आगे ढह गए थे। कोहली ने अपना 31वां शतक जड़ा था, लेकिन उनके अलावा कोई और बल्लेबाज 50 का आंकड़ा भी पार नहीं कर सका था।

कोहली और टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री चाहेंगे कि टीम के बल्लेबाज वापसी करें। भारत को खासकर सलामी बल्लेबाजी की चिंता होगी। रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी टीम को अच्छी शुरुआत नहीं दिला सकी थी। यहीं से टीम बिखर गई थी और बड़ा स्कोर खड़ा नहीं कर पाई।

वहीं मध्यक्रम में टीम प्रबंधन ने अनुभवी बल्लेबाज दिनेश कार्तिक को मौका दिया था। कार्तिक अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में नहीं बदल पाए थे। केदार जाधव भी अच्छी लय में आने के बाद एक गलत शॉट खेल कर आउट हो गए थे। कोहली इस मैच में जाधव को बाहर बैठा कर मनीष पांडे को मौका दे सकते हैं। वहीं टीम के लिए जरूरी है कि निचले क्रम में हार्दिक पांड्या और महेंद्र सिंह धौनी का बल्ला चले।

यह भी पढ़ें :

टीम इंडिया ने ऐसे मनाया हार्दिक पांड्या का बर्थडे, शेयर किया वीडियो

टी-20 और टेस्ट टीम की घोषणा..जानें किसको मिला मौका और किसकी हुई छुट्टी

घर में खेलते हुए ऐसे मौके बेहद कम देखने को मिलते हैं जब भारतीय टीम पहला मैच हारकर सीरीज गंवाने की कगार पर हो। किवी कप्तान केन विलियमसन की टीम के पास भारत को उसके घर उसे मात देने का स्वार्णिम मौका तब मिला है जब मेजबान विश्व क्रिकेट में अपना दबदबा दिखा चुके हैं।

टीम के गेंदबाजों ने पिछले मैच में भारत की मजबूत बल्लेबाजी को संभलने नहीं दिया था। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट टीम के लिए असरदार साबित हुए थे। उन्होंने शुरुआती विकेट लेकर मेजबानों को बैकफुट पर पहुंचा दिया था। बाद में मिशेल सेंटनर ने मध्य में अहम विकेट लेकर भारत को संभलने का मौका नहीं दिया था।

टीम की गेंदबाजी एक बार फिर बोल्ट के इर्द-गिर्द घूमेगी। टिम साउदी के रूप में किवी टीम के पास एक और अच्छा गेंदबाज है जो भारतीय बल्लेबाजों को परेशान कर सकता है। बल्लेबाजी की बात की जाए तो मेहमानों के लिए पिछले मैच में सबकुछ अच्छा रहा था और उसी प्रदर्शन से आत्मविश्वास हासिल करते हुए किवी बल्लेबाज भारत का सामना करने उतरेंगे।

सलामी बल्लेबाज की भूमिका में मुंबई में विकेट पर कदम रखने वाले कोलिन मुनरो और कप्तान विलियमसन को छोड़कर मार्टिन गुप्टिल, टेलर और लाथम ने टीम को संभाला था और जीत दिलाई थी। कप्तान, लाथम, टेलर और गुप्टिल टीम की बल्लेबाजी की अहम कड़ी हैं। अगर मेहमानों को दूसरा मैच जीतना है तो इन चारों में से किसी एक को बड़ी पारी खेलने की जरूरत होगी।

-आईएएनएस