मुंबई: टॉम लाथम (नाबाद 103) और रॉस टेलर (95) की दोहरी शतकीय साझेदारी के दम पर न्यूजीलैंड ने वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए पहले वनडे मैच में रविवार को भारत को छह विकेट से हरा दिया। इस जीत के साथ न्यूजीलैंड ने भारत के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली है।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय क्रिकेट टीम ने अपने कप्तान विराट कोहली (121) के शतक के दम पर न्यूजीलैंड के सामने 281 रनों का लक्ष्य रखा। लक्ष्य विशाल नहीं था, लेकिन इतना था कि इस पर लड़ा जा सके। लेकिन, मेहमान टीम ने इसे 4 विकेट के नुकसान पर ही 284 रन बनाकर हासिल कर लिया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड टीम के लिए मार्टिन गुप्टिल (32) और कोलिन मुनरो (28) ने पहले विकेट के लिए 48 रनों की साझेदारी की। जसप्रीत बुमराह की गेंद पर मुनरो इसी स्कोर पर दिनेश कार्तिक के हाथों लपके गए।

इसके बाद, कप्तान केन विलियमसन (6) को कुलदीप यादव ने ज्यादा देर तक मैदान पर नहीं टिकने दिया और केदार जाधव के हाथों कैच आउट करवाया। 100 का आंकड़ा पूरा होने से पहल ही हार्दिक पांड्या ने गुप्टिल के रूप में मेहमान टीम का तीसरा विकेट भी गिरा दिया। गुप्टिल को कार्तिक ने कैच आउट किया।

ये भी पढ़े :

बीसीसीआई से मुआवजे के दावे पर पीसीबी हुआ शर्मसार

मुंबई वनडे: कोहली का शतक, कीवियों के सामने जीत के लिए 281 रनों का लक्ष्य

लाथम और टेलर ने इसके बाद बिखरी हुई टीम को अपनी बेहतरीन पारियों के दम पर संभाला और चौथे विकेट के लिए 200 रनों की साझेदारी कर टीम को जीत के मुहाने पर ला खड़ा किया। 280 के कुल योग पर भुवनेश्वर कुमार ने युजवेंद्र चहल के हाथों टेलर को आउट कर पवेलियन भेजा। इसके बाद निकोल्स (4) ने लाथम के साथ न्यूजीलैंड को लक्ष्य तक पहुंचाया।

लाथम और टेलर की ओर से की गई साझेदारी भारत के खिलाफ वनडे मैच में की गई सबसे बड़ी साझेदारी है। इससे पहले, 2010 में दाम्बुला में स्कॉट स्टोरिस ने टेलर के साथ 188 रनों की साझेदारी की थी।

इससे पहले, भारत के लिए पारी की शुरूआत अच्छी नहीं रही। 100 का आंकड़ा पार करने से पहले ही मेजबान टीम ने शिखर धवन (9), रोहित शर्मा (20) और केदार जाधव (12) के रूप में अपने तीन विकेट गंवा दिए।

इसके बाद टीम की पारी को संभालने आए कप्तान कोहली और दिनेश कार्तिक (37) ने चौथे विकेट के लिए 73 रनों की सधी हुई साझेदारी की और टीम को 144 के स्कोर तक पहुंचाया, लेकिन इसी स्कोर पर कार्तिक, टिम साउदी की गेंद पर कोलिन मुनरो के हाथों कैच आउट हुए।

कार्तिक के बाद कोहली का साथ देने आए अनुभवी बल्लेबाज महेंद्र सिंह धौनी (25) ने 57 रनों की अर्धशतकीय साझेदारी कर स्कोर का आंकड़ा 200 के पार ही पहुंचाया था कि रोहित और धवन का विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने धौनी को भी मार्टिन गुप्टिल के हाथों कैच आउट कर पवेलियन का रास्ता दिखाया।

भारतीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या 16 रन ही बना पाए थे कि उन्हें भी बोल्ट ने 238 के कुल स्कोर पर कप्तान केन विलियमसन के हाथों कैच आउट करवाया।

एक छोर पर टीम की पारी को संभाले कोहली के साथ सातवें विकेट के लिए साझेदारी करने आए भुवनेश्वर कुमार (26) साउदी की गेंद पर हेनरी निकोल्स के हाथों लपके गए।

साउदी ने इसके बाद कोहली को भी 270 के कुल स्कोर पर बोल्ट के हाथों कैच आउट करा पवेलियन भेजा। अपनी पारी में कोहली ने 125 गेंदें खेलीं और नौ चौके और दो छक्के लगाए। उन्होंने अपने करियर का 31वां वनडे शतक पूरा किया।

कोहली के आउट होने के साथ ही 280 के कुल योग पर भारतीय टीम की पारी समाप्त हो गई। कुलदीप यादव बिना खाता खोले नाबाद पवेलियन लौटे।

न्यूजीलैंड के लिए बोल्ट ने सबसे अधिक चार विकेट लिए, वहीं साउदी को तीन सफलता मिली। सेंटनर एक विकेट लेने में सफल रहे।

इस मैच में कोहली ने अपने करियर का 200वां मैच खेलते हुए शतक लगाया। इस शतक के साथ वनडे मैचों में उन्होंने सबसे अधिक शतक लगाने की श्रेणी में आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग को पछाड़ते हुए दूसरा स्थान हासिल कर लिया। इस श्रेणी में भारत के दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर पहले स्थान पर हैं।