नई दिल्ली : प्रो-कबड्डी लीग (पीबीएल) सीजन-5 के लिए खिलाड़ियों की नीलामी सोमवार से शुरू हो रही है। नीलामी की यह प्रक्रिया दो दिन तक चलेगी।

सोमवार और मंगलवार को होने वाली इस नीलामी में 400 से अधिक खिलाड़ी हिस्सा लेंगे। इनमें वे 131 युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी भी शामिल होंगे, जिन्हें नई प्रतिभाओं की खोज के लिए स्टार स्पोर्ट्स की ओर से आयोजित 'टैलेंट हंट' अभियान के तहत चुना गया है।

इस बार प्रो-कबड्डी लीग ने अपने शीर्षक प्रायोजक के रूप में चीन की मोबाइल फोन निर्माता कंपनी वीवो को चुना है। राजधानी दिल्ली के ग्रैंड ग्रीन होटल में आयोजित होने वाली इस नीलामी प्रक्रिया में पिछले चार संस्करणों से खेलती आ रही आठ टीमों-पटना पाइरेट्स, बेंगलुरू बुल्स, जयपुर पिंक पैंथर्स, पुनेरी पल्टन, दबंग दिल्ली, तेलुगू टाइटंस, बंगाल वॉरियर्स और यू-मुंबा के अलावा चार नई टीमें- चेन्नई, हरियाणा, अहमदाबाद और लखनऊ भी बोली लगाएंगी।

प्रो-कबड्डी लीग सीजन-5 में शामिल हुए टीमों के मालिकों की भी घोषणा की जा चुकी है। इसमें चेन्नई टीम के मालिक एन. प्रसाद और महान भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर हैं।

अहमदाबाद टीम का मालिकाना हक अडानी ग्रुप के पास है। लखनऊ टीम का मालिकाना हक जीएमआर ग्रुप के हाथों में हैं, जबकि हरियाणा टीम का मालिकाना हक जेएसडब्ल्यू ग्रुप के हाथों में है।

इन चार टीमों के साथ ही लीग में अब कुल 12 टीमें हो गई हैं। टीमों की संख्या में बढ़ोतरी होने के साथ ही 13 सप्ताह तक चलने वाली इस लीग में अब 130 मैच खेले जाएंगे।

उल्लेखनीय है कि इस सीजन के लिए पुरानी आठों टीमें सिर्फ एक-एक खिलाड़ी रीटेन कर सकेंगी। इसके तहत यू-मुंबा ने अपने कप्तान अनूप को रीटेन किया है, तेलुगू टाइटंस ने अपने कप्तान राहुल चौधरी, पटना पाइरेट्स ने अपने सबसे महत्वपूर्ण युवा खिलाड़ी प्रदीप नरवाल, दबंग दिल्ली ने कप्तान मिराज शेख, बंगाल वॉरियर्स ने दक्षिण कोरिया के कबड्डी खिलाड़ी चांग कुन ली, पुनेरी पल्टन ने अपने सबसे सफल रेडर दीपक हुड्डा और बेंगलुरू बुल्स ने डिफेंडर आशीष कुमार को रिटेन किया है।

पिछले चार सीजन से खेलती आईं आठ टीमों में से केवल जयपुर पिंक पैंथर्स ने किसी भी खिलाड़ी को रीटेन नहीं किया।

सीजन-5 के लिए प्रत्येक टीम में 18 से 25 खिलाड़ी शामिल होंगे। नीलामी के लिए खिलाड़ियों की कोई आधार कीमत नहीं रखी गई है। नीलामी पूरी तरह से डायनेमिक प्राइसिंग पर आधारित होगी। इसके तहत खिलाड़ियों की कीमत उनकी फ्रेंचाइजी टीमों की ओर से तय की जाएगी।

इस नीलामी के लिए खिलाड़ियों को चार वर्गो में बांटा गया है। ए-वर्ग में महत्वपूर्ण खिलाड़ी शामिल होंगे, जिन्हें टीमों द्वारा प्राथमिकता दी जाएगी।

इसके बाद बी-वर्ग में शामिल खिलाड़ियों की प्राथमिकता ए-वर्ग के खिलाड़ियों से कम होगी। सी-वर्ग में राष्ट्रीय स्तर पर कबड्डी खेल चुके खिलाड़ी शामिल होंगे, वहीं डी-वर्ग में नए प्रतिभाशाली खिलाड़ी शामिल होंगे। इन युवा प्रतिभाओं से चुने गए खिलाड़ी इस सीजन में कबड्डी लीग में पदार्पण करेंगे।