मुंबई : आवास ऋण अर्थात् होम लोन लेने के मामले में महाराष्ट्र के लोग अव्वल रहे हैं। एक रपट के अनुसार सितंबर 2018 तक बांटे गए कुल आवास ऋण में महाराष्ट्र की हिस्सेदारी 24 प्रतिशत है। मुंबई के साथ ठाणे और पुणे में आवास ऋण की मांग सबसे ज्यादा है।

इस ऋण को देने में सभी तरह के ऋणदाता यानी हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां, सरकारी बैंक और निजी बैंक शामिल हैं। कर्ज से जुड़ी जानकारी देने वाली कंपनी क्रिफ हाई मार्क द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में शहरीकरण उच्च स्तर पर होने के चलते सितंबर 2018 तक कुल आवास ऋण में उसकी हिस्सेदारी 24 प्रतिशत रही है।

ये भी पढ़ें: कायम रही रेपो दर तो घर खरीदारों को मिलेगा प्रोत्साहन

आंकड़ों के मुताबिक, आवास ऋण लेने के मामले में ये तीनों शहर बेंगलुरु के साथ देशभर में शीर्ष पर है। रपट में कहा गया है कि आवास ऋण श्रेणी में पिछले साल के मुकाबले 16.8 प्रतिशत की वृद्धि हुयी है और कुल 17,900 अरब रुपये का कर्ज बांटा गया है।

कर्ज वितरण में हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों की हिस्सेदारी 41.9 प्रतिशत जबकि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की हिस्सेदारी 38.72 प्रतिशत और निजी क्षेत्र के बैंकों की हिस्सेदारी 16.05 प्रतिशत है।