इच्चापुरम : वाईएस जगनमोहन रेड्डी की प्रजा संकल्प यात्रा में उनके समर्थक तरह-तरह से सपोर्ट करने के तरीके ढूंढ लेते हैं। सपोर्ट करने वाले हर किसी का मन यही कहता है कि जब वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की सरकार बनेगी तो आंध्र प्रदेश के सारे गरीबों के दुख-दर्द दूर हो जाएंगे। कुछ ऐसी ही आशा लेकर प्रजा संकल्पा यात्रा में अपने एक अनोखे अंदाज में गुंटूर जिले के पालकपुरम गांव के रहने वाले डैनियल चल रहे हैं।

धूप-गर्मी, ठंड व तूफान की परवाह किए भूख-प्यास की चिंता किए बगैर वह अपने पूज्यनीय YS राजशेखर रेड्डी के बेटे और आंध्र के भविष्य जगन मोहन रेड्डी को मुख्यमंत्री बनते देखना चाहते हैं। इसके लिए वह अपने परिवार को लगभग छोड़ रखा है।

यह भी पढ़ें:

YS जगन की शून्य से लेकर 3600 KM प्रजा संकल्प यात्रा घटनाक्रम का संक्षिप्त परिचय

सुनहरे अक्षरों में लिखी जानी वाली YS जगन की लंबी प्रजा संकल्प यात्रा का संक्षिप्त विश्लेषण

अपने अनोखे अंंदाज में यात्रा के आगे-आगे चलने वाले डेनियल का मानना है कि वह इस तरह से जगन मोहन रेड्डी को सपोर्ट करके आंध्र प्रदेश के गरीब व किसान की आशाओं को पूरा करने की पहल में अपना एक छोटा सा योगदान दे रहे हैं और अपने मन से बिना किसी लालच के चल रहे हैं।

आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के रहने वाले डैनियल का मानना है कि वह जगन मोहन रेड्डी को सिर्फ इसलिए सपोर्ट कर रहे हैं कि जैसे ही वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की आंध्र प्रदेश में सरकार बनेगी राज्य में नवरत्नालु लागू हो जाएगा । नवरत्नालु एक ऐसी योजना है जिससे सारे गरीबों के दुख दर्द दूर हो जाएंगे और वह खुशी खुशी अपना जीवन व्यतीत कर सकेंगे।

डैनियल का कहना है कि चंद्रबाबू सरकार में नवरत्नालु जैसे योजनाओं की अनदेखी हुई है जिसके कारण गरीब परेशान हैं। इसीलिए हर कोई चाहता है कि जल्द से जल्द चुनाव हो और लोगों की आकांक्षाओं की पूरा करने वाली सरकार को वोट देकर सत्ता सौंपी जा सकें।

डैनियल 200 से अधिक दिन तक वह पदयात्रा में चल चुके हैं। वह वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेता जगनमोहन रेड्डी और उनकी सरकार बनने वाली सरकार की ओर आशा भरी नजर से देख रहे हैं। आंध्र प्रदेश के गरीब, किसान, मजदूर और छात्र-छात्राएं इसीलिए जगन मोहन रेड्डी का सपोर्ट कर रहे हैं क्योंकि उन्हें भरोसा है कि उनके सरकार में आने के बाद नवरत्नालु जैसी व्यवस्था फिर लागू होगी और उनको अपना भविष्य संवारने में मदद मिलेगी।

डैनियल का कहना है कि जब भी घर में कोई जरूरी काम होता है तो वह बीच बीच में दो चार दिन के लिए घर जाते हैं और परिवार के जरूरी काम करके लौट आते हैं। ऐसा करते हुए वह लगभग 200 दिन यात्रा में बिता चुके हैं।