अब तक 3638.9 किलोमीटर पूर्ण

08.01.2019, मंगलवार

अग्रहारम, श्रीकाकुलम जिला

प्रजा संकल्प यात्रा अंतिम चरण में पहुंच चुका है। थोड़ी सी दूरी पर विजय संकल्प स्तूप है। हमारे कदम उसी की ओर बढ़ रहे है। पश्चिमी गोदावरी जिले के देंदुलुरु गांव में पदयात्रा के दौरान ऑटो चालक वेंकट रामबाबू मिला था। उसका एकलौता बेटा मणिकंठम ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित था। उसे अस्पताल गया तो लाखों रुपये खर्च आने की बात बताई गई।

उसने यह भी बताया कि आरोग्यश्री लागू नहीं होगी। पीड़ित बच्चे के पिता की हालत देखकर मुझे बहुत दुख हुआ। बच्चे के इलाज के लिए आवश्यक मदद की व्यवस्था की। बच्चे का ऑपरेशन हो गया। अब वह ठीक है। आज वेंकट अपने बेटे को लेकर मुझसे मिलने आया। आभार व्यक्त किया। बच्चे को हंसते देखकर मुझे बहुत अच्छा लगा।

यह भी पढ़ें:

341वें दिन की और आखिर प्रजा संकल्प यात्रा शुरू, होगा ऐतिहासिक लंबी पदयात्रा का समापन

किडनी...

आज कविटी मंडल में पदयात्रा जारी रही। देश में सबसे अधिक किडनी पीड़ित इसी प्रांत में है। अनेक किडनी पीड़ित आकर मुझसे मिले। मुझसे मिलने वालों में चार से बच्चों से लेकर बूढ़े भी शामिल थे। ये सभी गरीब मजदूर और मच्छुआरे थे। मेहनत करे तो ही पेट में कुछ जाता है। सरकारी की ओर से किसी प्रकार की सुविधा नहीं मिल रही है। कब क्या होगा कुछ भरोसा नहीं है। सभी पीड़ितों की बात सुनकर बहुत दुख हुआ।

यह भी पढ़ें:

YS जगन की शून्य से लेकर 3600 KM प्रजा संकल्प यात्रा घटनाक्रम का संक्षिप्त परिचय

सुनहरे अक्षरों में लिखी जानी वाली YS जगन की लंबी प्रजा संकल्प यात्रा का संक्षिप्त विश्लेषण

भगवान के भरोसा...

एक दादा ने बताया कि इस बीमार का भार किस्मत पर छोड़ दिया। सब कुछ भगवान के हाथ में है कहकर घर पर रह रहा है। बोडिया जमुना की परिवार की हालत इससे भी दयनीय है। इस एक ही परिवार में चार लोगों की किडनी बीमारी के कारण मौत हो गई। हर एक की गाथा सुनते हुए मेरा मन दुख से भर आया।

नहीं करते शादी...

एक जमाने में बागवानी के लिए प्रसिद्ध यह प्रांत आज किडनी रोगियों से प्रभावित है। यहां के लोगों से कोई शादी करने को तैयार नहीं है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि हालत की कितनी गंभीर है। कर्मचारी भी यहां पर आने को कतरा रहे है। पलायन का सिलसिला जारी है। अनेक लोग घर छोड़कर भी चले गये है। मगर सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है।

शराब...

इसी तरह चुट्टा दुन्ना नामक व्यक्ति भी किडनी बीमारी से पीड़ित है। उसकी पत्नी लक्ष्मी ने रोते हुए बताया, "यह सरकार पीने को पानी नहीं दे रही है। मगर शराब भरपूर पिला रही है। इसके कारण किडनी पर बुरा असर पड़कर जो किडनी है, वह भी पूरी तरह से खराब हो गई।" लोगों की जान बचाने के बजाय यह सरकार शराब पीलाकर लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रही है। सरकार यह रवैया अत्यंत खेद जनक है।

मुख्यमंत्री से मेरा एक सवाल...

आप अस्पतालों का बकाया राशि भुगतान नहीं किये जाने के कारण आरोग्यश्री सेवाओं को रोक दिया गया है। अब आप कह रहे है कि आरोग्यश्री की राशि में पांच लाख की बढ़ोत्तरी करेंगे और महिलाओं की प्रस्तूति को भी आरोग्यक्षी परिधि में ले आएंगे। क्या यह लोगों के साथ धोखा देना नहीं है?

-वाईएस जगन